कृषि समाचार मंडी रेट्स बुलेटिन 21 अक्टूबर 2021

23 और 24 अक्टूबर को उत्तरी हरियाणा के जिलों में हो सकती है वर्षा

अम्बाला, चंडीगढ़, पंचकूला, यमुनानगर, कुरक्षेत्र, कैथल, करनाल सहित नार्थ हरियाणा में 23 और 24 अक्टूबर को बारिश होने की संभावना बन रही है जिसका कारण अफगानिस्तान से पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी से उठा पूर्वी हवाओं का दबाव है बारिश के बाद तापमान गिरने से ठंड भी बढ़ेगी। मौसम विभाग के अनुसार 15 नवंबर के बाद धुंध पड़ सकती है। चंडीगढ़ के मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार अभी मौसम 21 और 22 अक्टूबर को सूखा रहेगा, जबकि 23 अक्टूबर को बादल छाने के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है। 24 अक्टूबर को भी रेनफॉल एक्टिविटी का असर देखने को मिल सकता है। बारिश के बाद आगे धीरे-धीरे तापमान कम होते जाएंगे । नवंबर तक अधिकतम तापमान 30 डिग्री से नीचे आना शुरू हो जाता है।

गाजीपुर फूल मंडी में गेंदा फूल किसानों को हो रहा है बड़ा नुक्सान।

फूलों की मशहूर गाज़ीपुर मंडी में इस बार गेंदे के किसानों की बड़ी दुर्गत देखने को मिली है। बुधवार की सुबह पूरी मंडी में किसानों के बेचने के लिए द्वारा लाये गेंदे के फूल फैले हुए थे लेकिन दो रुपये प्रतिकिलो का खुला रेट होने के बावजूद भी कोई भी ग्राहक खरीदने को तैयार नहीं था जिसकी वजह से लगभग दस टन फूल बर्बाद हो गया जिसे फेंकना पड़ा। अजमेर से गाजीपुर तक का भाड़ा भाड़ा 16 हज़ार रुपये लग जाता है लेकिन कल अजमेर से आये एक किसान को पूरे ट्रक कुल पांच हज़ार रुपये ही मिले।

नवरात्र से पहले गेंदे के फूल का रेट दस से बीस रुपये प्रति किलो चल रहा था लेकिन फूलों की आवक ज्यादा होने कारण नवरात्र के दिनों में भी पांच से दस टन गेंदे के फूल वेस्टेज के रूप में किसानों के द्वारा फेंकने पड़ रहे थे।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद से ही गेंदे के फूल के रेट और मांग दोनों में कमी देखी जा रही है जिसका मुख्य कारण विवाह व अन्य आयोजनों का ना हो पाना मना जा रहा है पिछले वर्ष नवरात्रों में किसानों को गेंदे के फूलों का रेट उनकी क्वालिटी के अनुसार 70 रुपये से लेकर 200 रुपये प्रति किलो तक मिल रहे थे।

पिछले साल रेट में तेजी को देखते हुए इस वर्ष बड़े कारोबारियों ने गैंदा कोल्ड स्टोरेज में लगाया हुआ था जिसे उन्होंने पहले निकाल दिया और वहीँ उत्पादन बम्पर होने के कारण अब 2 रुपये प्रतिकिलो का ग्राहक भी नहीं मिल रहा है।

बारिश थमने के साथ ही फसल अवशेषों को जलाने के मामलों में में हुई है वृद्धि

सीईईडब्ल्यू (काउंसिल ऑन एनर्जी, एनवायरमेंट एंड वॉटर) के अनुसार, 1 सितंबर से 19 अक्टूबर के बीच पंजाब में फसल अवशेषों को जलाने के 4345 मामले सामने आए हैं। जबकि हरियाणा में इनकी संख्या 2034 है। इस साल पंजाब में 2018, 2019 के मुकाबले अधिक फसल अवशेषों को जलाने के मामले सामने आए हैं। जिसकी वजह से बुधवार को हवा खराब स्थिति में पहुंच गई।

फसल अवशेषों को जलाने की वजह से राजधानी में 12 प्रतिशत प्रदूषण बढ़ा है। हवाओं के साथ फसल अवशेषों को जलाने का धुआं राजधानी पहुंच रहा है। अगले तीन दिनों तक राजधानी की हवा बेहद खराब स्तर में रह सकती है। आईआईटीएम पुणे के अनुसार, पंजाब में 19 अक्टूबर को पराली जलाने के 596 मामले सामने आए। हरियाणा में इनकी संख्या 55 है बुधवार को राजधानी का एक्यूआई (एयर क्वॉलिटी इंडेक्स) बढ़कर 221 पहुंच गया। वल्लभगढ़ में एक्यूआई 339, भिवाड़ी में 234, फरीदाबाद 224, गाजियाबाद 278, ग्रेटर नोएडा 260, गुरुग्राम 235, मानेसर 226, नोएडा 240 रहा।

हरियाणा धान खरीद अपडेट

खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग, हरियाणा, चंडीगढ़ द्वारा यह बताया गया कि राज्य में 20 अक्तूबर तक कुल 31,66,820 टन धान की खरीद की गई है ।

राज्य में धान की खरीद के मुख्य जिलों अम्बाला में 3, 48,881 टन, फतेहाबाद में 2,11,068 टन, जींद में 69,046 टन, कैथल 5,07, 265 टन, करनाल में 7, 23,431 टन, कुरुक्षेत्र में 7,92,589 टन, पंचकूला में 58,827 टन, पानीपत में 32,996 टन, सिरसा में 41,206 टन तथा यमुनानगर में 3, 26,961 टन धान की खरीद की गई है। खरीद की गई धान का मंडियों से 74 प्रतिशत उठान हो चुका है।

अन्य खबरों के लिए देखें अलख भारत

हरियाणा में नए बाग़ लगाने पर किसानों को मिलेगी 50% की सब्सिडी

किसानों को बागवानी के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए बागवानी विभाग हरियाणा के माध्यम से से अनेक योजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं ।

इसी कड़ी में हरियाणा सरकार के बागवानी विभाग के द्वारा अब नए बाग लगाने पर किसानों को प्रति हैक्टेयर 50 प्रतिशत तक अनुदान दिया जा रहा है ताकि किसान बागवानी को अपनाकर अधिक मुनाफा कमा सकते हैं । किसानों को अमरूद का बाग लगाने पर 11 हजार 500 रुपए, नींबू का बाग लगाने पर 12 हजार रुपए और आंवला का बाग पर 15 हजार रुपए की राशि सरकार द्वारा अनुदान के रूप में दी जाती है । इस अनुदान योजना के तहत एक किसान 10 एकड़ तक बाग लगा सकता है।

बागवानी फसलों होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए सरकार द्वारा बागवानी बीमा योजना चलाई जा रही है । यह योजना किसानों को सब्जियों, फलों व मसालों को प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले जोखिम से मुक्त कर फसल लागत की भरपाई करने में कारगर साबित होगी।

इस विषय में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने जिले में स्थित उद्यान विभाग के कार्यालय में सम्पर्क करें ।

दस नवंबर तक सरसों की बिजाई हर हाल में कर लें हरियाणा के किसान

हरियाणा में रबी सीजन में सरसों मुख्य रूप से रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, हिसार, सिरसा, भिवानी व मेवात जिलों में अधिक बोई जाती है। सरसों की अधिक पैदावार के लिए पछेती किस्म आरएच-9801 व आरएच-30 की बुआई 10 नवंबर तक की जा सकती है।

किसान बिजाई से पूर्व मौसम के मद्देनजर खेत में नमी का विशेष ध्यान रखें। सरसों की फसल की बुआई का समय 30 सितंबर से 20 अक्टूबर तक होता है, लेकिन बावजूद किसी कारणवश किसान बिजाई नहीं कर पाए तो भी वे 10 नवंबर तक उचित किस्मों के चुनाव के साथ इसकी बिजाई कर सकते हैं।

समय पर बिजाई के लिए विश्वविद्यालय द्वारा विकसित उन्नत किस्में आरएच 725, आरएच 0749, आरएच 30 सर्वोत्तम हैं, जिसकी सिंचित क्षेत्र के लिए 1.5 किलोग्राम बीज प्रति एकड़, बारानी क्षेत्रों के लिए 2 किलोग्राम से प्रति एकड़ बीज डालना चाहिए।

बिजाई से पूर्व बीज को 2 ग्राम कार्बेडिज्म प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से सूखा उपचार अवश्य करें। पौधे से पौधे की दूरी 10 से 15 सेंटीमीटर व कतार से कतार की दूरी 30 सेंटीमीटर रखें।

दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा शुरू सरचार्ज माफी योजना

योजना के महत्वपूर्ण बिंदु इस प्रकार हैं

यह योजना केवल उन गांवों के उपभोक्ताओं पर लागू होगी, जिन गांवों में ‘म्हारा गांव-जगमग गांव’ योजना लागू है। यदि किसी ग्राम पंचायत ने ‘म्हारा गांव-जगमग गांव’ योजना को लागू करवाने के लिए सहमति दे रखी है, तो वे भी सरचार्ज माफी योजना का लाभ उठा सकते हैं।

कोरोना में आर्थिक स्थिति बिगड़ने पर, जिन उपभोक्ताओं के कनैक्शन 30 जून, 2021 तक कट गए थे, वे सभी उपभोक्ता इस योजना का लाभ उठाकर अपने कनैक्शन ले सकते हैं।

बकायादार उपभोक्ता अपने बिजली बिल की 25 प्रतिशत मूल राशि का भुगतान करके अपना बिजली कनैक्शन चालू करवा सकता है।

शेष 75 प्रतिशत मूल राशि का लगातार छह किश्तों में भुगतान के साथ-साथ वर्तमान बिल का भी भुगतान करना होगा।

कृषि, घरेलू, गैर-घरेलू और औद्योगिक श्रेणियों के उपभोक्ताओं के लिए लागू

उपभोक्ता यदि अपने बकाया बिजली बिल की 100 प्रतिशत मूल राशि का एकमुश्त या किश्तों में भुगतान करता है, तो उसका पूरा सरचार्ज माफ कर दिया जाएगा।

जिन उपभोक्ताओं के मामले न्यायालय में विचाराधीन हैं, वे इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते। ऐसे उपभोक्ता, यदि केस वापिस लेते हैं, तो उन्हें इस योजना का लाभ मिल सकता है।

ऐसे उपभोक्ता जो कनैक्शन कटने के बाद बिजली चोरी करते हुए पकड़े गए हैं और उनके विरुद्ध एफ.आई.आर. दर्ज है, वे इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते।

इस योजना का लाभ उठाने के लिए उपभोक्ता अपने संबंधित उपमंडल अधिकारी / ऑप्रेशन के कार्यालय में सम्पर्क कर सकते हैं।

इस सम्बन्ध में निगम द्वारा सेल्ज परिपत्र संख्या ही-41/2021 भी जारी किया गया है।

सरचार्ज माफी योजना 30 नवम्बर, 2021 तक लागू रहेगी ।

किसान भाई उर्वरकों की शुद्धता की जांच कैसे कर सकते हैं?

उर्वरकों की कमी से साबत देश के किसान जूझ रहे हैं और कल तो नारनौल में एक दुकान से किसानों ने उर्वरकों की बोरियां लूटनी पड़ गयी ताकि समय से खेत पर बिजाई की जा सके । ऐसे कठिन दौर में नकली उर्वरक बनाने और सप्लाई करने वालों की भी मौज लगी हुई है । इस लेख में हम आपको यह बताने जा रहे हैं कि किसान भाई कैसे अपने स्तर पर ही नकली उर्वरकों की जांच कर सकते हैं और आपने कीमती धन की बचत कर सकते हैं ।

अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए भूमि की उर्वरा शक्ति को उच्च स्तर पर बनाए रखना नितान्त आवश्यक है। उर्वरक और खाद के इस्तेमाल द्वारा मिट्टी की उर्वरा शक्ति का संरक्षण तथा पौधों के पोषक तत्वों की पूर्ति की जाती है।

इनकी पहचान और शुध्दता की जांच कैसे करें?

शुद्ध यूरिया

  1. सफेद, चमकदार, लगभग समान आकार के गोल दाने।
  2. पानी में घुलनशील तथा छूने पर ठंडा लगता है।
  3. गर्म तवे में रखने पर पिघल जाता है और आंच तेज करने पर अमोनिया की गंध आती है।
  4. फूंकने में नम हो जाता है।

शुद्ध डी.ए.पी.

शुद्ध डी.ए.पी. कठोर, दानेदार, भूरा, काला या बादामी रंग नाखूनों से तोड़ने पर आसानी से नहीं टूटता है।

तवे पर धीमी आंच में गर्म करने से दाने फूल कर बड़े हो जाते है।

डी.ए.पी. के कुछ दानों को लेकर तम्बाकू की तरह उसमें चूना मिला कर रगड़ने पर तीक्षण गंध आती है।

हथेली में बंद करके फूंक मारने पर गीला हो जाता है।

शुद्ध जिंक सल्फेट

  1. जिंक सल्फेट में मुख्यतः मैग्नीशियम सल्फेट मिलावटी रसायन के रूप में प्रयोग किया जाता है। भौतिक रूप से समानता के कारण नकली असली की पहचान करना बहुत कठिन हो जाता है।
  2. जिंक सल्फेट के घोल में पतला कास्टिक का घोल मिलाने पर सफेद, मटमैला मांड जैसा अवक्षेप बनता है, जिसमें गाढ़ा कास्टिक का घोल मिलाने पर अवक्षेप पूर्णतया घुल जाता है। यदि जिंक सल्फेट की जगह मैग्नीशियम सल्फेट है, तो अवक्षेप घुलता ही नहीं है।
  3. जिंक सल्फेट के घोल में डी.ए.पी. का घोल मिलाने पर थक्केदार घना अवक्षेप बन जाता है, जबकि मैग्नीशियम सल्फेट के साथ ऐसा नहीं होता

शुद्ध म्यूरेट ऑफ पोटाश (एम. ओ.पी.)

  1. सफेद कणाकार, पिसे नमक तथा लाल मिर्च जैसा मिश्रण।
  2. ये कण नम करने पर आपस में नहीं चिपकते ।
  3. पानी में घोलने पर उर्वरक का लाल भाग पानी के ऊपर तैरने लगता है।

इन परीक्षणों में यदि उर्वरक नकली मिले तो इसकी पुष्टि किसान सेवा केन्द्रों पर उपलब्ध टेस्टिंग किट से की जाती है।

पंजाब के किसान अक्तूबर माह के अंत तक कर दें गोभी सरसों की बीजाई

गोभी सरसों की जी.एस.सी. -7 और पी.जी.एस. एच.-1707 पंजाब कृषि विश्वविधालय द्वारा प्रामाणित किस्में हैं जो पकने में क्रमवार 154 और 162 दिन का समय लेती हैं और इनकी उपज 9 क्विंटल प्रति एकड़ है।

इन किस्मों में से करीब 40 प्रतिशत तेल निकलता है। यह खाने के लिए उच्च क्वालिटी का माना जाता है। क्योंकि, इसमें इरूसिक एसिड 2 प्रतिशत कम होता है। गोभी सरसों की प्रमाणित किस्मों की काश्त के लिए अक्तूबर महीने के अंत का समय उचित होता है।

एक एकड़ में सरसों की बुवाई करने के लिए एक से डेढ़ किलो बीज काफी होता है।

पंजाब सरकार द्वारा धान खरीद हेतु जारी की गयी गाइडलाइंस

बोली सुबह 10 से शाम 6 बजे तक होगी।

इस मौके संबंधित कर्मियों अधिकारियों की उपस्थिति जरुरी होगी।

मंडी में फसल की आमद को रजिस्टर में दर्ज करना होगा और बोली दौरान एजेंसी इंचार्ज को मौके पर होना अनिवार्य है। उसके रजिस्टर में हस्ताक्षर भी होंगे। ऐसा ना होने पर डी. एफ. एस. सी. कार्यवाई करेंगे।

खरीदी बोरियों पर आढ़ती का विवरण अंकित करना ज़रुरी है। इसमें फसली साल, आढ़ती का पूरा नाम, जिन्स का नाम व खरीद केन्द्र का नाम आदि अंकित हो ।

बोरी पर यह छापा नीले रंग की स्याही से लगाया जाना होगा। बोरी की सिलाई भी नीले रंग के धागे से की जानी है।

खरीदी धान केवल जूट की बोरी में ही भरी जाना चाहिए। खरीदे धान की उठान 72 घंटे में जानी अनिवार्य है।

कोविड को ध्यान में रखते हुए मंडियों में बचाव के लिए जागरूक करने वाले बैनर लगाए जाएं। सैनिटाइज़र व साबुन का प्रबंध हो ।

पानी का विशेष प्रबंध होना चाहिए। आढ़ती की तरफ से किसानों की फसल को लेकर पोर्टल पर दर्ज किया जाना है।

उसके बाद किसान की ओर से मंडी में लाई गई फसल दर्ज किए गए रिकार्ड अनुपात के अनुसार होनी चाहिए।

हिमाचल में दालचीनी की खेती हुई शुरू

सिनामोन, जिसे लोकप्रिय रूप से दालचीनी के नाम से जाना जाता है, एक सदाबहार झाड़ीदार पेड़ है, जिसकी छाल और पत्तियों में एक मीठी-मसालेदार सुगंध होती है। पेड़ का मुख्य भाग इसकी छाल होती है, जिसका प्रयोग मुख्यतः मसाले के रूप में किया जाता है। अक्सर इसका प्रयोग हम चाय और सब्जियों में करते हैं ।

भारत वर्तमान में श्रीलंका, चीन, इंडोनेशिया, वियतनाम और नेपाल से दालचीनी का सालाना आयात करता है। इस 45,318 टन आयात में से 37,166 टन सिनामोमम कैसिया (विभिन्न देशों में प्रतिबंधित प्रजातियां) भारत द्वारा चीन, वियतनाम और इंडोनेशिया से आयात किया जाता है।

दालचीनी की खेती शुरू करने वाला हिमाचल पहला भारतीय राज्य बन गया है सीएसआईआर- आईएचबीटी ने जिला ऊना के गांव खोलीं में सबसे पहले इसकी खेती शुरू कराई थी। इसके बाद कांगड़ा और सिरमौर में भी इसके पौधे लगाए जा चुके हैं। केरल में 2000 हेक्टेयर क्षेत्र में सिनामोमम वेरम की खेती की जा रही थी, लेकिन यह एक असंगठित रूप से हो रही थी

असली दालचीनी सिनामोमम वेरम से प्राप्त होती है। सिनामोमम कैसिया एक अन्य प्रजाति है, जिसकी छाल का उपयोग असली दालचीनी के स्थान पर किया जाता है। देश में दालचीनी के बड़े आयात को देखते हुए और यह कि भारत में आयात किया जाने वाला सिनामोमम कैसिया है, न कि सिनामोमम वेरम

सीएसआईआर-आईएचबीटी के वैज्ञानिकों ने ऊना, बिलासपुर, कांगड़ा, हमीरपुर और सिरमौर जिले इसकी खेती के लिए उपयुक्त माना है।

दालचीनी की संगठित खेती को सफल होने पर, व्यावसायिक स्तर पर शुरू किया जाएगा, जिससे भारत के दालचीनी के 909 करोड़ रुपये प्रति वर्ष के आयात में और कमी आएगी और विदेशी मुद्रा की बचत होगी ।

दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान की विभिन्न मंडियों का मंडी भाव बुलेटिन – 21 अक्टूबर 2021

समूह: रेशा Group:Fiber

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

ऐलनाबाद मंडी भाव

नरमा : ₹7500- ₹8135

कपास : ₹7000- ₹7450

सिरसा मंडी भाव

नरमा :₹7500- ₹8201

कपास : ₹7000- ₹7315

आदमपुर मंडी भाव

नरमा : ₹7600- ₹8196

फतेहाबाद मंडी भाव

नरमा: ₹8050

कपास : ₹7475

गोलूवाला मंडी भाव

नरमा : ₹8700

रावतसर मंडी भाव

नरमा : ₹7700- ₹8400

बरवाला मंडी भाव

नरमा : ₹8131

कोट कपूरा मंडी

नरमा भाव ₹7915

रावतसरमंडी

नरमा भाव ₹8371- ₹8400

सिरसा मंडी

नरमें भाव ₹7500 से ₹8201

कपास भाव ₹7000 से ₹7320

सिवानी अनाज मण्डी में

नरमा भाव ₹ 8150

कपास भाव ₹7550

आदमपुर मंडी

नरमा बोली ₹8195

फतेहाबाद मंडी

नरमें का रेट ₹8050

कपास भाव ₹7475

अनूपगढ़ मंडी भाव

नरमा : ₹8616- ₹8700

समूह: धान Group:Paddy

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

सिरसा अनाज मण्डी में आज

1509 धान का रेट ₹3051,
1718 धान ₹3133
पीबी – 1 धान ₹2822
1401 धान ₹2962

ऐलनाबाद मंडी भाव
धान 1509 : ₹2600- ₹2960

रानियाँ मंडी भाव
धान 1509 : ₹2900

कलायत मंडी भाव
धान 1718: ₹3061 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
धान 1509 : ₹3081 (हाथ से काटी गयी)

गन्नौर मंडी भाव
धान 1509 : ₹2801 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
धान 1718 : ₹3240

टोहाना मंडी
1509 भाव ₹3015 कॉम
DP भाव ₹3010
भाव 3020 भाव ₹3075 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)

खरखौदा मंडी
धान 1509 भाव ₹3031
1509 भाव ₹2871 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
1718 भाव ₹3200

मथुरा मंडी
धान 1509 भाव ₹2100 से ₹2850 (हाथ से काटी गयी)

समालखा मंडी
1121 भाव ₹3531
1718 भाव ₹3221
1509 भाव ₹3051 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
1718 भाव ₹3000 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
1509 भाव ₹2831

हाथरस मंडी
1509 भाव ₹2781 से 2825धान (हाथ से काटी गयी)

भरथना मंडी
धान 1509 भाव ₹2500

बेरी मंडी
धान 1509 भाव ₹3131
1121 भाव ₹3511 (सरबती) ₹ 2121

नरवाना मंडी
धान 1125 भाव ₹ 3000धान (हाथ से काटी गयी)

गोहाना मंडी
हाथ 1121 भाव र 3521
1509 भाव ₹ 3140धान (हाथ से काटी गयी)
1509 कॉम 2895
1718 धान 3217 (सरबती) भाव₹ 2001धान (हाथ से काटी गयी)

अमृतसर मंडी
धान 1509 भाव ₹2600 से ₹2950
1121 भाव ₹3000 से ₹3475
1718 भाव ₹3000 से ₹3300

पिल्लू खेड़ा मंडी
धान 1509 भाव ₹2945 कंबाइन (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
धान 1509 भाव ₹3181 (हाथ से काटी गयी )
1718 धान भाव ₹3256 न (हाथ से काटी गयी)
1121 भाव ₹3226 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
1121 धान (हाथ से काटी गयी) भाव ₹3511
सरबती धान (हाथ से काटी गयी) भाव ₹2050

कोट कपूरा मंडी
1121 भावर-₹3260.
1509 भाव ₹3165.
1401 भाव ₹3050
1718 भाव ₹3370

पलवल मंडी
धान 1509 धान (हाथ से काटी गयी) भाव ₹2850
आवक 3000 bags 1509 भाव ₹ 2700 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)

भूना मंडी
1718 भाव ₹ 3031
1509भाव ₹2925

जुलाना मंडी
धान 1509 भाव ₹ 3150 धान (हाथ से काटी गयी)
1121 भाव र 3293 (कंबाइन द्वारा काटी गयी)

नारनौद मंडी
1509 धान भाव ₹ 3055 (हाथ से काटी गयी)
1718 धान भाव ₹ 3191 (हाथ से काटी गयी)

भरथना मंडी

धान 1509 भाव ₹2500

खैर मंडी
धान 1509 भाव ₹ 2700 से 2851 (हाथ से काटी गयी)
धान 1509 भाव ₹ 2600 से 2700 कंबाइन (कंबाइन द्वारा काटी गयी)
सरबती भाव ₹ 2012 (हाथ से काटी गयी)
धान 1401 भाव ₹ 3141 (हाथ से काटी गयी)

फतेहाबाद मंडी
धान 1509 भाव ₹ 3050
PB1 भाव ₹2740
1121भाव ₹ 3200

समूह : दालें Group :Pulses

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नोहर मंडी भाव

चना: ₹ 4750- ₹ 4870
मुंग : ₹ ₹ 4500- ₹ 6855
मोठ :₹ 6000- ₹ 6975
अरंड :₹ 5500- ₹ 6080

देवली (टोंक) कृषि

उड़द ₹ 3500-6500,
मुग ₹ 3800 – ₹ 6000,
मसूर ₹ 6000- ₹ 6500

सादुलपुर (चुरू) कृषि उपज मंडी भाव:

चना नया- ₹ 5000
मुग दागी- ₹3500 / ₹5000
मोठ नया – ₹7000

भवानी मंडी रेट्स टुडे

चना- ₹ 4100/ ₹ 4600

मसूर- ₹ 6200/ ₹6600

पुराना उड़द – ₹3000/ ₹ 5500

जयपुर ग्रेन मार्केट रेट टुडे :

चना- ₹5250-50
मूंग- ₹6300/ ₹7300

उड़द- ₹6700/ ₹7300

दाल चना ₹5950-50

मोठ दाल ₹8700/ ₹8800 रूपये

केकड़ी अनाज मंडी का भाव आज का :

चना- ₹ 4800,
उड़द- ₹ 3000/ ₹ 7600

मुंग- ₹ 3000/ ₹ 6800

सिवानी अनाज मण्डी में

चना – ₹5100

मोठ – ₹6700

मूंग- ₹6100

शहजादपुर

हरी मटर -₹40 ₹60 ₹40

समूह:अनाज Group: Cereals

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नोहर मंडी भाव

सरसों : ₹ 7200- ₹ 7515
ग्वार : ₹ 5000- ₹ 6150

रावतसरमंडी

सरसों का रेट – ₹ 7925

देवली कृषि
गेहूं – ₹1950- ₹2020,
जौ – ₹2040- ₹2160,
मक्का – ₹1300- ₹2340,
बाजरा – ₹1400- ₹1650,
जवार – ₹1251 – ₹2100,
ग्वार – ₹5000- ₹5500
तिल – ₹ 8000- ₹ 10600,
सोयाबीन – ₹ 4200- ₹ 4901
सरसों – ₹7931

सादुलपुर मंडी भाव:

गुआर मील – ₹ 6020
बडीया- ₹6100/ ₹600+100
बाजरा- ₹1500+25
चवला डिलकस- ₹ 6000
चवला मील- ₹4900/ ₹5000,
चवला लाल- ₹3000/ ₹4000

भवानी मंडी :

सोयाबीन- ₹ 4000/ ₹ 5750

मेथी- ₹ 6100/ ₹ 6400

कलौंजी- ₹ 17000/ ₹ 20200

धनिया – ₹ 6000/ ₹ 6500

बादामी ईगल- ₹ 6500/ ₹ 6800

सरसो- ₹6500 / ₹7200

केकड़ :
गेहू – ₹ 1970

मक्का बारीक़- ₹1800/ ₹2350

बाजरा- ₹1350/ ₹ 1500

ज्वार देसी- ₹ 2200/ ₹ 2500

ग्वार- ₹5700

जीरा- ₹10000/ ₹ 12300

सरसो- ₹7650

तिल- ₹ 8000 / ₹10200

सिरसा अनाज मण्डी में आज

ग्वार का भाव : ₹ 4500 से ₹5980

बाजरी : ₹1400 से ₹ 1494

सरसों : ₹ 7000 से ₹7500

गेहूं : ₹1800 से ₹1925

सिवानी अनाज मण्डी में

ग्वार का रेट : ₹6150

सरसों : ₹7700

तारामीरा : ₹6500

मेथी : ₹7200

गेहूं : ₹1925

बाजरा : ₹1500

समूह:फल Group:Fruits

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

सेब
नारायणगढ़ ₹20 ₹45 ₹35
नरवाना ₹18 ₹80 ₹47.5
पटौदी ₹50 ₹60 ₹55
शाहाबाद ₹25 ₹38 ₹30
शहजादपुर ₹20 ₹20 ₹20
केला
लामैलाबाद ₹25 ₹32 ₹29.8
नरवाना ₹13 ₹13 ₹13
पटौदी ₹18 ₹25 ₹20
शाहाबाद ₹18 ₹21 ₹20
शहजादपुर ₹22 ₹25 ₹25
अंगूर
नारायणगढ़ ₹110 ₹200 ₹150
शाहाबाद ₹100 ₹100 ₹100
अमरुद
नारायणगढ़ ₹32 ₹38 ₹34
शाहाबाद ₹37 ₹70 ₹50
किन्नू
शाहाबाद ₹10 ₹35 ₹20
मौसंबी
गोहाना ₹25 ₹40 ₹25
नारायणगढ़ ₹27 ₹35 ₹28
नरवाना ₹30 ₹30 ₹30
सढौरा ₹27 ₹30 ₹28
शाहाबाद ₹26 ₹35 ₹30
संतरा
गोहाना ₹20 ₹40 ₹20
नारायणगढ़ ₹33 ₹33 ₹33
शाहाबाद ₹10 ₹28 ₹15
अनार
नारायणगढ़ ₹70 ₹70 ₹70
शाहाबाद ₹55 ₹70 ₹60
तरबूज
नारायणगढ़ ₹20 ₹20 ₹20
शाहाबाद ₹20 ₹20 ₹20

समूह: मसाले Group:Spices

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

लहसून
नारायणगढ़ ₹45 ₹45 ₹45
शाहाबाद ₹24 ₹52 ₹25
सूखा अदरक
नारायणगढ़ ₹16 ₹35 ₹22
शाहाबाद ₹25 ₹30 ₹28
शहजादपुर ₹20 ₹30 ₹20

समूह:सब्जियां Group:Vegetables

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

कच्चा केला
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18
नारायणगढ़ ₹11 ₹15 ₹12
भिन्डी
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18
नारायणगढ़ ₹15 ₹20 ₹18
पटौदी ₹18 ₹20 ₹20
सढौरा ₹18 ₹20 ₹18
शाहाबाद ₹15 ₹20 ₹18
शहजादपुर ₹25 ₹25 ₹25
करेला
नारायणगढ़ ₹15 ₹15 ₹15
शाहाबाद ₹18 ₹20 ₹19
घीया
लामैलाबाद ₹10.1 ₹15 ₹12.1
नारायणगढ़ ₹8 ₹12 ₹10
पटौदी ₹12 ₹16 ₹15
सढौरा ₹8 ₹10 ₹9
शाहाबाद ₹10 ₹10 ₹10
बैंगन
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18
नारायणगढ़ ₹6 ₹12 ₹10
पटौदी ₹18 ₹20 ₹20
सढौरा ₹8 ₹10 ₹9
शहजादपुर ₹14 ₹14 ₹14
बंद गोभी
नारायणगढ़ ₹10 ₹20 ₹15
सढौरा ₹20 ₹20 ₹20
शाहाबाद ₹15 ₹30 ₹25
शहजादपुर ₹15 ₹20 ₹20
शिमला मिर्च
नारायणगढ़ ₹40 ₹70 ₹50
शाहाबाद ₹10 ₹18 ₹12
गाजर
नारायणगढ़ ₹10 ₹22 ₹16
शाहाबाद ₹15 ₹15 ₹15
फूल गोभी
लामैलाबाद ₹25 ₹30.2 ₹28.5
नारायणगढ़ ₹18 ₹25 ₹20
नरवाना ₹20 ₹30 ₹25
शाहाबाद ₹15 ₹20 ₹18
शहजादपुर ₹20 ₹32 ₹20
अरबी
शाहाबाद ₹6 ₹6.8 ₹6.5
हरा धनिया
नारायणगढ़ ₹20 ₹50 ₹35
खीरा
गोहाना ₹7 ₹12 ₹7
नारायणगढ़ ₹7 ₹14 ₹12
पटौदी ₹12 ₹16 ₹15
सढौरा ₹10 ₹10 ₹10
शाहाबाद ₹8 ₹10 ₹9
शहजादपुर ₹10 ₹15 ₹15
फ्रास बीन
नारायणगढ़ ₹15 ₹30 ₹25
शहजादपुर ₹20 ₹20 ₹20
हरी मिर्च
गोहाना ₹20 ₹30 ₹20
नारायणगढ़ ₹20 ₹30 ₹25
पटौदी ₹20 ₹30 ₹25
सढौरा ₹25 ₹25 ₹25
शाहाबाद ₹20 ₹28 ₹25
शहजादपुर ₹15 ₹30 ₹27
पत्ते वाली सब्जियां
शहजादपुर ₹10 ₹20 ₹20
नींबू
गोहाना ₹30 ₹40 ₹30
नारायणगढ़ ₹22 ₹25 ₹23.5
पटौदी ₹28 ₹30 ₹30
पेहोवा ₹14 ₹19 ₹15
शाहाबाद ₹15 ₹30 ₹25
शहजादपुर ₹20 ₹30 ₹25
मेथी
नारायणगढ़ ₹30 ₹40 ₹33
प्याज
गोहाना ₹25 ₹30 ₹25
नारायणगढ़ ₹22 ₹35.5 ₹28
नरवाना ₹25 ₹35 ₹30
पतौदी ₹25 ₹45 ₹35
पेहोवा ₹14 ₹15 ₹15
सढौरा ₹30 ₹36 ₹32
शहजादपुर ₹26 ₹30 ₹28
गीले मटर
नारायणगढ़ ₹40 ₹70 ₹50
सढौरा ₹80 ₹80 ₹80
शाहाबाद ₹45 ₹60 ₹50
आलू
गोहाना ₹7 ₹10 ₹7
लामैलाबाद ₹7.5 ₹9.5 ₹8.5
नारायणगढ़ ₹6 ₹11 ₹8.8
नरवाना ₹10 ₹10 ₹10
पटौदी ₹10 ₹16 ₹15
पेहोवा ₹14 ₹16 ₹15
सढौरा ₹8 ₹11 ₹10
शाहाबाद ₹5 ₹7 ₹6
शहजादपुर ₹6 ₹8 ₹6
कद्दू
पटौदी ₹8 ₹11 ₹10
सढौरा ₹8 ₹8 ₹8
शाहाबाद ₹5 ₹6.5 ₹6
शहजादपुर ₹8 ₹15 ₹10
मूली मूली
गोहाना ₹10 ₹10 ₹10
नारायणगढ़ ₹5 ₹8 ₹7
पटौदी ₹7 ₹10 ₹8
सढौरा ₹4 ₹5 ₹4.5
शाहाबाद ₹5 ₹10 ₹6
शहजादपुर ₹10 ₹10 ₹10
तोरई
नारायणगढ़ ₹12 ₹15 ₹14
पालक
नारायणगढ़ ₹6 ₹15 ₹10
शाहाबाद ₹10 ₹18 ₹12
स्पंज लौकी
शाहाबाद ₹15 ₹17 ₹16
टिंडा
पटौदी ₹18 ₹22 ₹20
टमाटर
गोहाना ₹35 ₹40 ₹35
नारायणगढ़ ₹17 ₹30 ₹22
नरवाना ₹30 ₹45 ₹42.5
पटौदी ₹40 ₹55 ₹45
पेहोवा ₹14 ₹15 ₹15
सढौरा ₹35 ₹40 ₹38
शाहाबाद ₹22 ₹28 ₹25
शहजादपुर ₹20 ₹30 ₹28
रतौला
नारायणगढ़ ₹15 ₹15 ₹15

निवेदन नोट

किसान भाईयों इस लेख में बताई गयी सभी सूचनाएं हमने विभिन्न स्त्रोतों से एकत्रित की हैं और आप इन्हें केवल सांकेतिक ही समझें और अपनी समझ बूझ से ही इनका उपयोग करें । आप सभी व्यावसायिक निर्णय अपनी जांच पड़ताल करके ही लें । हमारा उद्देश्य सिर्फ आपको जागरूक करना है हम आपको हुए किसी प्रकार के लाभ और हानि की कोई गारंटी या जिम्मेदारी नहीं लेते हैं।

Leave a Comment