मंडी भाव एवं कृषि समाचार 24 अक्टूबर 2021

aaj-ka-mandi-bhav
मंडी भाव एवं कृषि समाचार 24 अक्टूबर 2021 2

गोहाना मंडी में कपास एम.एस.पी. से 2352 रुपये अधिक भाव पर बिकी

हरियाणा के जिला सोनीपत की गोहाना की अनाज मंडी में कपास की फसल के दामों में लगातार उछाल देखा जा रहा हैं। मंडी में कपास न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से 2352 रुपये अधिक भाव पर बिक रही है। छोटे रेशे की कपास का एम.एस.पी. 5,825 रुपये और लंबे रेशे की कपास का एम.एस.पी. 6025 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया है। अक्टूबर महीने की शुरुआत में कपास का रेट 6400 से 7200 रुपये क्विंटल बिकी थी लेकिन अब प्राइवेट खरीद में शुक्रवार को लम्बे रेशे वाली कपास 8,377 रुपये क्विंटल बिकी है जो 2352 रुपये एम एस पी से अधिक है।

विदेशी मुद्रा भंडार 1.492 अरब डॉलर बढ़कर 641 अरब डॉलर

देश का विदेशी मुद्रा भंडार 15 अक्तूबर को समाप्त हुए सप्ताह में 1.492 अरब डॉलर बढ़कर 641.008 अरब डॉलर हो गया। आर. बी. आई. के साप्ताहिक आंकड़ों के अनुसार 15 अक्तूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में यह वृद्धि मुख्य रूप से विदेशीमुद्रा आस्तियों (एफ.सी.ए.) के बढ़ने की वजह से हुई जो कुल मुद्राभंडार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

प्याज का निर्यात जारी रहेगा कीमतें अभी पिछले वर्ष की तुलना में नियंत्रण लग रही है

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली में प्याज की खुदरा कीमतें 48 रुपये किलो, मुंबई में 43 रुपये किलो, चेन्नई में 37 रुपये किलो और कोलकाता में 57 रुपये किलो थी । खरीफ प्याज का उत्पादन 2021-22 फसल वर्ष (जुलाई-जून) में कहीं अधिक यानी 43.88 लाख टन होने का अनुमान है, जो एक साल पहले की समान अवधि में 37.38 लाख टन था । 21 अक्टूबर को प्याज की औसत कीमत 41.5 रुपये प्रति किलो थी, जो एक साल पहले की समान अवधि के 55.6 रुपये प्रति किलो से काफी कम है ।

दिल्ली की गाजीपुर मंडी में फूलों का हो रहा बुरा हाल

दिल्ली की गाज़ीपुर मंडी में फूलों के रेट किसानों को खून के आंसू रुला रहे हैं गेंदे की भयंकर पिटाई के बाद अब गुलदाउदी भी किसानों को निराश करती हुई नज़र आ रही है इस बार इतनी मंदी चल रही है कि किसानों के किराए के पैसे भी पूरे नहीं हो रहे हैं जबकि देश के अलग अलग हिस्सों से गुलदाउदी का आना जारी है पिछले सालों में इस सीजन में जिस गुलदाउदी का रेट 150 रुपये से 200 रुपये हुआ करता था वही रेट इस बार 20 रुपये का भी नहीं मिल पा रहा है बारिश होने की वजह से फूल भीगे हुए हैं और भीगे हुए फूलों को स्टोर नहीं किया जा सकता है इसीवजह से आढ़ती फूल लेने को तैयार नहीं है और इतने अच्छे फूलों को फेंकना पड़ रहा है जिसकी वजह से किसानों के मन में भयंकर पीड़ा और निराशा है

गेहूं की किस्म डीबीडब्लू- 303 दे रही है सर्वाधिक उत्पादन बनी है पहली पसंद

गुण

यह अगेती किस्म है। किसान इसकी बुआई 25 अक्टूबर के बाद कर सकते हैं। इसका औसत उत्पादन 81.2 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। वहीं क्षमता की बात करें तो 97.4 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक इसका उत्पादन हो सकता है। हालांकि, उत्पादन बहुत कुछ स्थानीय जलवायु पर निर्भर करता है। डीबीडब्लू- 303 पोषक तत्वों से भरपूर और रोगरोधी भी है और डीबीडब्लू- 303 में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है। इसमें प्रोटीन की उपलब्धता 12.1 प्रतिशत है। इसकी रोटी अच्छी बनती है। ब्रेड व बिस्किट के लिए भी यह मुफीद है। 156 दिनों में इस वैरायटी की फसल पककर तैयार हो जाती है। यह किस्म पीला, भूरा व काला रतुआ रोगरोधी किस्म है। इस बीज को गत वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व खाद्य दिवस के मौके पर देश को समर्पित किया था। किसानों की अधिक संख्या को देखते हुए प्रति किसान 10 किलोग्राम बीज उन किसानों को दिया जा रहा है, जिन्होंने संस्थान के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराया था।बीज लेने के लिए करीब 17 हजार किसानों ने पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराया था। तीनों प्रजातियों में सबसे ज्यादा डिमांड डीवीडब्ल्यू 303 की है। किसानों को इसका मदर सीड उपलब्ध है । इसके अलावा डीवीडब्लू- 187 व डीबीडब्लू – 222 बीजों की किस्मों की भी भारी मांग किसानों में देखी जा रही है।

पंजाब और यू पी के किसानों का धान हरियाणा में खरीदा जाना सम्भव नहीं है

हरियाणा में मेरी फसल मेरा ब्यौरा नामक योजना को कामयाबी से लागू किये जाने बाद 52 हज़ार ऐसे किसानों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया है जो पंजाब और उत्तरप्रदेश के निवासी हैं । जो किसान हरियाणा के हैं उन्हें मंडी में गेटपास आदि दिए जा रहे हैं धीरे धीरे पूरी खरीद प्रक्रिया को व्यवस्थित किया जा रहा है।

पंजाब और उत्तरप्रदेश के किसानों से धान की खरीद करने के लिए हरियाणा सरकार ने केंद्र से अनुमति मांगी लेकिन अभी तक इस दिशा में नीतिगत निर्देश केंद्र से प्राप्त नहीं हुआ है सभी 52 हज़ार पंजाब और उत्तरप्रदेश के निवासी किसानों का डाटा भी केंद्र को भेजा गया है ।

पिछले खरीफ सीजन में 56 लाख टन धान खरीदा गया था इस साल 60 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया था जिसमें से 40 लाख टन धान की खरीद पूरी हो चुकी है अभी जो हालात नज़र आ रहे है उनसे प्रतीत होता है कि इस वर्ष पंजाब और उत्तरप्रदेश के किसानों से धान खरीदा जाना आसान नहीं है ।

अमरीका में भारत में बने एरोमाथेरेपी स्प्रे में बैक्टीरिया मिला

यू.एस. सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सी.डी.सी.) की जांच में भारत में बने एरोमाथेरेपी स्प्रे बेटर होम्स एंड गार्डेस लैवेंडर एंड कैमोमाइल एसेंसिअल ऑयल इन्फ्यूस्ड एरोमाथेरेपी रूम स्प्रे विद जेमस्टोन्स में बुर्खोल्देरिया स्यूडोमालेई बैक्टीरिया पाया गया है ।

जिसके कारण अमेरिका में चार लोग इस वर्ष की शुरुआत में बीमार पड़ गए। उनमें से दो की मौत हो गई । इस वर्ष की शुरुआत में अमेरिका में चार व्यक्ति बीमार हो गए थे। यह स्प्रे छह अक्टूबर को जॉर्जिया निवासी एक व्यक्ति के घर में पाया गया जो जुलाई में बीमार पड़ा था । इस बात की लगातार जांच कर रही है कि क्या वह वहीं बैक्टीरिया है जो चार मरीजों में पाए गए थे ।

मूंगफली तेल तिलहन और कच्चा पाम तेल की कीमतों में सुधार

सरसों की रिपोर्ट

देश में सरसों का स्टॉक फिलहाल 10-12 लाख टन के आस पास है और वह भी केवल किसानों के पास ही है। हाल में हुई से बारिश से बोई गयी सरसों का नुकसान हुआ है और जिसकी वजह से अनेक जगहों पर किसानों को इसकी दोबारा बुवाई करनी पड़ेगी । अगली फसल आने में लगभग महीने भर की देर होने की संभावना है।

सोयाबीन की रिपोर्ट
सोयाबीन के नये फसल की मंडियों में आवक बढ़ रही है और मांग कमजोर है जिसकी वजह से इसके तेल तिलहन के भाव टूटे हैं। उन्होंने कहा कि सोयाबीन के तेल रहित खल (डीओसी) की मांग तथा निर्यात कमजोर होने से भी सोयाबीन तेल तिलहन में गिरावट देखी जा रही है । शुक्रवार को मंडियों में नौ लाख 70 हजार बोरी सोयाबीन की आवक हुई।

पामतेल (सी.पी.ओ.) की रिपोर्ट

दिल्ली की मंडी में शुक्रवार को पामतेल (सी.पी.ओ.) के भाव में सुधार आया वहीं सरसों, सोयाबीन तेल तिलहन, बिनौला, पामोलीन कांडला के भाव नुकसान में रहें। वनस्पति घी निर्माताओं की मांग बढ़ने से कच्चा पामतेल के भाव मजबूत हो गये है वायदा कारोबार में भी भाव मजबूत होने से इसमें सुधार देखने को मिला। पामोलीन के भाव में गिरावट देखी गयी है

मूंगफली की रिपोर्ट

बाजार में बिनौला तेल से सस्ता होने के कारण मूंगफली की मांग है जिसकी वजह से मूंगफली तेल तिलहन के भाव मजबूत बंद हुए जबकि बिनोला तेल के भाव गिरावट के साथ बंद हुआ जहां मांग कमजोर थी।
मूंगफली की पैदावार मौजूदा सत्र में 7-10 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि हाल की बारिश का मूंगफली पर कोई विशेष असर नहीं होना चाहिये।

हरियाणा किसान कल्याण प्राधिकरण का गठन

हरियाणा किसान एकम कृषि लागत मूल्य आयोग जिसे पहले हरियाणा किसान आयोग के नाम से जाना जाता था को समाप्त करके अब किसान कल्याण प्राधिकरण का गठन कर दिया गया है और कृषि विभाग ने इस विषय में अधिसूचना जारी कर दी है।

उत्तरप्रदेश मुख्यमंत्री किसान एवं सर्वहित योजना में दो करोड़ अड़तीस लाख किसानों को जोड़ा जायेगा

उत्तरप्रदेश के किसानों, भूमिहीन बटाईदार किसानों को वित्त एवं सामाजिक सहायता के तहत इस योजना से प्रदेश के लगभग 2.38 करोड़ किसान लाभान्वित होंगे। इस योजना कि तहत दुर्घटना के कारण मौत, स्थायी एवं अस्थायी विकलांगता की स्थिति में लाभार्थी को 5 लाख रुपये का बीमा कवर दिया जाएगा।

इसके अलावा 2.5 लाख रुपये तक निःशुल्क की इलाज की सुविधा होगी साथ ही 1 लाख रुपये तक के कृत्रिम अंग योजना के तहत उपलब्ध कराये जाने की सुविधा है। योजना में पात्रता के लिए 18 से 70 आयु वर्ग तक तथा उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी एवं परिवार की वार्षिक आय 75,000 रुपये वार्षिक से अधिक नहीं होनी चाहिए। किसान के परिवार की आय का मुख्य स्रोत केवल कृषि करना तथा कृषि से की गई आय से अपनी जीविका चलाना अनिवार्य होना चाहिए।

किसानों को योजना का लाभ डी.बी.टी. के माध्यम से सीधे खाते में दिया जाएगा। योजना का लाभ लेने के लिए सभी प्रपत्र 45 दिन के अंदर संबंधित तहसील कार्यालय में आवेदन सहित जमा कराना अनिवार्य होगा। बीमित व्यक्ति की प्रदेश के बाहर दुर्घटना होने पर भी लाभ होगा। यदि बीमित व्यक्ति का कोई पुत्र एवं पत्नी जीवित नहीं है तो ऐसी दशा में बीमा का लाभ उसकी पुत्री को ही दिया जाएगा।

धान की किसान नगरी दुबराज के जी.आई. टैग के लिए छतीसगढ़ के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय भेजा प्रस्ताव

ज्योग्राफिकल इंडिकेटर यानी जीआई टैग भारत सरकार की ओर से दिया जाता है । यह उन चीजों के लिए दिया जाता है, जो बहुत खास होती है और किसी क्षेत्र विशेष में पैदा होती है या बनाई जाती है। छत्तीसगढ़ के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय ने जीआई टैग नगरी दुबराज धान का प्रस्ताव भेजा है।

यदि यह दुबराज को मिल जाता है तो यह राज्य की दूसरी फसल होगी जिसके पास जीआई टैग होगा। साथ ही दुबराज ब्रांड नेम हो जाएगा। इसका फायदा नगरी के लोगों को मिलेगा। नगरी दुबराज राज्य की पहचान है। लेकिन कई बार यह बातें सामने आई कि इस धान के नाम का उपयोग कर रहे हैं और धान बेच रहे हैं।

इस वजह से यहां के किसानों को ज्यादा फायदा नहीं मिल पा रहा है और नगरी के बाहर के इलाकों में उगने वाले धान को नगरी दुबराज कह कर बेच दिया जाता है जी आई टैग मिल जाने के बाद नगरी के दुबराज धान उगाने वाले किसानों को बाह्यत फायदा होने की उम्मीद है

अभी फिलहाल जीरा फूल के पास जीआई टैग है। दुबराज में कई तरह की खूबियां हैं। यह यहां की धरोहर जैसी है, इस लिहाज से जीआई टैग के लिए प्रस्ताव भेजा गया है।

किसानों को ऑनलाइन पेस्टी साइड उपलब्ध कराने की चल रही है तैयारी

केंद्र सरकार ने 8 सितंबर को एक असाधारण राजपत्र जारी किया है जिसमें यह बताया गया है कि सेंट्रल गवर्नमेंट अब कृषि दवाइयों को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से बेचने का लाइसेंस देने के लिए नियम बना रही है।

हरियाणा की मंडियां

तरावड़ी मंडी का भाव

धान

डीबी मुच्छल 3040/3050, बासमती ( 1401) 3100/3125, (1509) 2900/3000, ( 1121 )3150/3350, शरबती 2200/2250, परमल 1800/1850,

चावल

बासमती 1121 सेला 6000/6100, डीबी सेला 5800/5900, शरबती स्टीम 4700/4800, परमल 2500/2600, चावल (1509 नं. )सेला 5400/5500, (1509 नं.) तिबार 3800/4000

पानीपत मंडी का भाव

कॉटनयार्न (5 किग्रा): हैंकयार्न: 2/4 नं. 420/430, 2/6 नं. 480/520, 2/10 नं. 590/620, 2/20 नं. 860/910, कोन यार्न: 2/4 नं. 430/440, 2/6 नं. 480/520, 2/10 नं. 600/630, 2/20. 860/915

समालखा मंडी का भाव

खल सरसों ( हिसार वाली ) 3300/3400,

खल बिनौला (कैथल वाली ) 3300/3500,

गुड़ 3800/4000,

धान 1509 नं. 2800/3000

ऐलनाबाद मंडी का भाव

सरसों (ढेरी) 7200/7400,

गेहूं 1930/1940,

ग्वार 5900/6200,

चना 5050/5150,

कपास नरमा 7300/7400

हापुड़ मंडी का भाव

अनाज-

गेहूं 2070/2080,

चावल परमल 2300/2400,

डुप्लीकेट बासमती सेला 5500/5600,

बासमती 1121 स्टीम 6400/6500

दाल

चना 5500/5600, चनादाल 6100/6200, काबली चना 7500/9000, राजमां देशी चित्रा 12000/13500, मटर 6000/6200, मटर दाल 6600/6700, अरहर लेमन 6600/6700, दाल अरहर 8800/9700, मसूर 7900/8200, उड़द देसी 7500/7600, दाल उड़द 8500/9600, धोया 9000/10000, मूंग यूपी 6500/7000, मूंग दाल 9000/10000,

गुड़-चीनी

चीनी हाजिर 3950/4050, गुड़ ( प्रति 40 किलो) बाल्टी 1200/1230, तिलहन: सरसों ( 42 प्रतिशत कंडी. ) 8300/8350, खल: सरसों 3450/3550, बिनौला 3300/3400, चना छिलका 2400/2450, चोकर मोटा (34 किलो) 700/710

करनाल मंडी का भाव

गेहूं दड़ा 2090/2100,

बासमती चावल 6500/6700, धान 1121 नं. 3200/3300, पूसा 1509 धान 2975/3050, शरबती धान 2150/2250, सेला (1509 नं.) चावल 5500/5600, सेला 1121 चावल 6000/6100, स्टीम 6500/6600, शरबती चावल सेला 3900/4100, स्टीम 4600/4700, चावल परमल कच्चा 2375/2400, सेला 2300/2350, आईआर- ( 8 ) सेला 2325/2375, चना ( छना) 6100/6200, चना दाल 6200/6300

दिल्ली की मंडियां

अनाज

गेहूं: एमपी देशी 2950/3050, दड़ा (मिल पहुंच) 2155/2160, चक्की (पहुंच) 2163/2165, आटा चक्की ( 10 किलो) 265/275, रोलरफ्लोर मिल आटा (50 किलो) 1185/1195, मैदा (50 किलो) 1225/1235, सूजी (50 किलो) 1275/1295, चोकर (48 किलो ) 975/985, चावल: बासमती लालकिला 11600, स्वाद 7500, शरबती सेला 4000/4100, स्टीम 4600/4700, (1121 नं.) चावल सेला 6000/6100, स्टीम 6700/6800, ( 1509 नं.) चावल सेला 5300/5400, स्टीम 5700/5800, बासमती सामान्य 6400/6500, सोर्टेक्स 6900/7000, परमल कच्चा 2400/2500, ब्रोकन (25 प्रश.) 2275/2350, वंड 2600/2700, पीआर (11) सेला 3800/3850, आईआर ( 8 )2250/2275, बाजरा: कैटल फीड 1600/1620,

ज्वार

पीली 2000/2200, सफेद 3200/3300,

मक्की

यूपी 1900/1910, बिहार 1925/1930,

जौ

2025/2100,

दाल

उड़द कच्चा

देशी 7500/7800, रंगून एफएक्यू 7200/7225, एसक्यू 8200/8210, दाल उड़द छिलका (लोकल) 8800/9100, धोया लोकल 700/9100,

मूंग कच्ची

राजस्थान 5600/7700, यूपी-एमपी 6800/7600, दाल मूंग छिलका 8400/9200, मूंग धोया: लोकल 7800/8600,

मसूर कच्ची

छोटी 7500/7800, मोटी विदेशी 7450/7500, देशी बिल्टी 7640/7650, दाल मसूर लोकल 8800/8900, मलकाः लोकल 8600/8800,

मोठ 6300/6800,

अरहरः रंगून 6300/6-400, देशी कनांटक 6700/6725, दाल अरहर: दड़ा 8600/8800, पटका 9100/9500,

चना ( खड़ी मोटर) राजस्थान 5175/5200, चनादालः लोकल 5850/5900,

बेसन ( 35 किलो) (जीएसटी अतिरिक्त): एग्रोप्योर 2420,

राजमां चित्राः चीन 12100/14300, ब्राजील 14100/14500, पुणे 9900/14100, राजमां शर्मिली 9700/9900,

काबली चना: छोटा 6800/7800, मीडियम 8200/8400, मोटा 8600/8900,

लोबिया: ब्राजील 7600/7800, लाल 6700/6900, मटर: सफेद देशी 6800/6900

तिलहून और तेल

तिलहन

सरसों 8250/8300, खली एक्सपेलर: सरसों पुराना बारदाना 3150/3200, नया 3300/3350, बिनौला 3150/3350, डिऑयल्ड एक्सट्रेक्शन (टन): राइसब्रान कंटीन्यूस 12000/12100, सरसों 24000/24100, सोयाबीन पीला 44000/47000, सूरजमुखी 25500/25600, मूंगफली (40-45 प्रश.) 34000/35000, राईसब्रान ( प्रति यूनिट) 149/150, खाद्य तेल (जीएसटी अतिरिक्त): मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड (टीन) 2800/2850, सरसों तेल (टीन) 2550/2800, सरसों एक्सपेलर 17300, तिल तेल 16500, सोयाबीन रिफाइंड मिल डिलीवरी 13250, सोया तेल डिगम्ड 12900, (टीन) -2200/2300, सनफ्लावर 2450/2500, बिनौला मिल डिलीवरी 13800, चावल तेल पंजाब 11550, गोला तेल (टीन) 3000/3100, अखाद्य तेल: राइस फैट्टी 9600/9650, एसिड ऑयल 8200/8250, अरंडी 13750/13850

मेवा

(जीएसटी अतिरिक्त ) ( प्रति 40 किलो )

किशमिश

इंडियन पीली 7600/8000, इंडियन हरी 8900/11600, कंधारी 15600/2500, रंगा 10800/11300, बादामः गुरबंदी 1450/14800 कैलिफोर्निया 18300/18500, बादामगिरी (किलो): कैलिफोर्निया 640/650, गुरबंदी 615/625, पिस्ता (किलो): ईरानी 1050/1150, हैराती 1550/1600, पेशावरी 1850/1950, पिस्ता डोडी रोस्टिड 800/810, अंजीर: सामान्य 18500/20000, सक्करपारा: 8500/12000, आबजोश 18500/29000, छुहारा (क्विं.) : लाल 10000/18000, रंगकाट 14000/20000, काजू गिरी (किलो): ( 320 नं.) 760/770, चिलगोजा रोस्टिड (किलो) 3050, अखरोट (किलो) 350/450, गिरी (किलो) 825/1075, गोला (क्विं. X कट्टे में) 20500/21000

किराना : (जीएसटी अतिरिक्त)

कालीमिर्च (किलो): मरकरा 480/485, एटम 11.5 नं. 520/530, एटम-12 नं. 595/610, इलायची बड़ी (किलो): झुंडीवाली 750/790, कैंचीकट 830/860, इलायची छोटी (किलो): मुंहखुला 1100/1200, साढ़े छह एमएम 1050/1125, साढ़े सात एमएम 1250/1300, आठ एमएम 1600/1625, लौंग ( किलो )700/720 दालचीनी 270/275, जायफल (किलो) 680/705, जावित्री (किलो): लाल 1775/1800, पीली 1850/1875, केसर (प्रति ग्राम) ईरानी 90/95, कश्मीरी 105/115

मुर्गी अंडा

(रुपया / सैंकड़ा)

दिल्ली (ट्रे सहित) 438, मुम्बई 445, कानपुर 443, पंजाब-टी 430, लुधियाना 411, नागपुर 425, प्रयागराज 433, लखनऊ 463, वाराणसी 467

पंजाब की मंडियां

खन्ना मंडी का भाव

जीएसटी अतिरिक्त ( प्रति क्विं.):

राइसब्रान (खाद्य प्रति प्वाइंट)165, राइसब्रान (अखाद्य ) 160, खल सरसों 3050, डीओसी: राइसब्रान बैच सफेद 850, कंटीन्यूअस 850, सरसों (टन) 24500, अनाज: गेहूं 2050/2060, आटा ( 50 किलो) 1100, मैदा 1200, चोकर (45 किग्रा) 900, चोकर ( 30 किग्रा) 600, मक्की बिहार 1925/1930

लुधियाना मंडी का भाव

दाल-दलहन: राजमां चित्रा 13500/15000, अरहर दॉल 9500/10000, उड़द साबुत 8500/9500, उड़द धोया 9200/10500, छिलका 8700/9800, दाल मसूर 9000/9900, चनादाल 6200/6500, एग्रो प्योर बेसन ( 35 किग्रा. ) 2410, काबली चना 8500/10500, मूंग साबुत 7700/9000, मूंग धोया 8500/9700, चावल: डीबी 5600/5650, शरबती स्टीम 5150/5300, चावल 1121 सेला 5800/5900, लालकिला 11600, तेल: बिनौला 13825, चावल तेल 12200, सरसों 17350, खलः सरसों 3300/3350, बिनौला 3750/3850, डीओसी: मूंगफली 34300, किराना: जीरा 15200/17000, धनिया 8000/8800, हल्दी 8800/9500, केसर प्रति ग्राम कश्मीरी 105/115

अमृतसर मंडी का भाव

चावल: बासमती ( 1121 नं.) स्टीम 6650/6750, सेला 6000/6100, शरबती सेला 4000/4100, शरबती स्टीम 4800/4900, चावल 1509 सेला 5450/5550, धानः शरबती 2150/2200, बासमती 1121 धान 3150/3250, धान (1509) 3000/3100, पीआर-11 नं. 2050/2075, देशी चना 5700/5900, चनादाल 6300/6400, गुड़ (क्विं): लड्ड मंगलौर 4050/4350, देशी पंजाब 4150/4300, शक्कर देश 4350/4450, बूरा खांड 4200/4300

संगरूर मंडी का भाव

गेहूं 2125/2130, आटा (50 किलो) 1180/1190, मैदा (50 किलो) 1240/1250, सूजी (50 किलो) 1320/1330, चावल बासमती सेला 6200/6300, स्टीम 6600/6700, शरबती चावल सेला 4100/4200, स्टीम 4800/4900, चावल परमल कच्चा 2500/2600, सेला 2400/2500, देशी चना छना 6200/6250, दाल चना 6150/6350, उड़द छिलका 8900/10600, राजमां चित्रा देशी 9800/14000, चीन 13500/14800, काबली चना 8000/10400, किराना: जीरा 15400/17200, धनिया 8400/10200, लालमिर्च गुंटूर 341 नं. 15000/15500, तेजा 18000/20000, हल्दी इरोड़ गट्ठा 8200/8300, निजामाबाद फली 9200/9300, मेवा (किलो): काजू: (320 नं.) 970/980, गोला 22000/24000

जालंधर मंडी का भाव

गेहूं दड़ा 2140/2150, चावल परमल कच्चा

2475/2600, सेला 2400/2500, मक्की यूपी 1930/1940, एमपी 1940/1950, दाल उड़द छिलका 9300/11000, चना देशी छना 6200/6250, दाल चना 6200/6300, काबली चना 8000/9800, राजमां चित्रा पुणे 9800/14000, चीन 11000/12800, शर्मिली 10500/10800, किराना: जीरा 15300/17200, धनिया 8500/10000, लाल मिर्च गुन्टूर-(334 नं.) 16000/16500, तेजा 21500/23500, हल्दी इरोड गट्ठा 7800/7900, निजामाबाद 8800/9000, मेवा (किलो): काजू: (320 नं.) 1020/1040, (210 नं.) 1110 / 1120, (240) 1080/1110, (180.) 1180/1230, मखाना 575/775, गोला 21000/23000

रूई बाजार

जैतो : पंजाब: जे 34 रोलर रूई 6440-6470 रुपए मन,

हरियाणा : जे 34 रोलर रूई 6400-6440 रुपए मन, राजस्थान जे 34 रोलर रूई 6450-6470 रुपए मन, खैरथल सर्कल रूई 60,300 61,300 रुपए कैंडी,

नई काटन सीड (बिनौला) 3700-3900 रुपए क्विंटल कपास नरमा आवक 29000 गांठ, बढ़िया कपास 7800-8300 रुपए प्रति क्विंटल से अधिक । कोम्बर पंजाब 90-91 रुपए, राजस्थान 84-85 रुपए, गुजरात 86-87 रुपए व हिमाचल प्रदेश 89-90 रुपए प्रति किलो )

Leave a Comment