एग्रीअपडेट एवं मंडी रेट बुलेटिन 19 अक्टूबर 2021

किसान भाइयों नमस्कार !

किसान भाई 31 अक्टूबर तक कर लें यह काम दिसंबर में आएगी खाते में 4000 रुपये की किस्त।

पीएम किसान की 10वीं किस्त 15 दिसंबर तक आने की पूरी संभावना है और यह दोगुनी होकर 2000 की जगह 4000 रुपये आएगी या नहीं, इस पर अभी मोदी सरकार ने फैसला नहीं लिया है, लेकिन दिसंबर में आपके खाते में 4000 रुपये आ सकते हैं।

अगर आपने अब तक पीएम किसान सम्मान निधि योजना की लिस्ट में अपना नाम दर्ज नहीं कराया है। यह मौका उन किसानों के लिए है, जिन्होंने अब तक पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम में अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है। ऐसे पात्र किसान 31 अक्टूबर से पहले पीएम किसान में अपना रजिस्ट्रेशन करा लेते हैं तो 4000 रुपये पाने के रुपये पाने के हकदार हो जाएंगे।

ऐसे लाभार्थियों को लगातार दो किस्तें मिलेंगी। यदि आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है तो नवंबर में आपको 2000 रुपये मिलेंगे और इसके बाद दिसंबर में भी 2000 रुपये की किस्त आपके बैंक अकाउंट में आ जाएगी। पीएम किसान की किस्त लेने के लिए आपके पास बैंक खाता होना जरूरी है। आपका बैंक अकाउंट आधार से लिंक होना जरूरी है।

आधारकार्ड नही देने पर आप इस स्कीम का लाभ नहीं ले पाएंगे। आप वेबसाइट pmkisan.gov.in पर अपने डॉक्यूमेंट्स अपलोड कर सकते हैं। इसके लिए आप किसान कॉर्नर के विकल्प पर जाएं और अगर आधार कार्ड को जोड़ना है तो इसके लिए आधार विवरण संपादित करें के ऑप्शन को क्लिक कर अपडेट कर सकते हैं।

पीएम किसान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। यहां न्यू रजिस्ट्रेशन का विकल्प मिलेगा, उस पर क्लिक करना होगा। अब एक नया पेज खुल जाएगा।

नये पेज पर अपना आधार नंबर लिखे जिसके बाद रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा। रजिस्ट्रेशन फॉर्म में आप राज्य, जिला, ब्लॉक या गांव की जानकारी देनी होगी। इसके अलावा किसानों को अपना नाम, जेंडर, कैटिगरी, आधार कार्ड की जानकारी, बैंक अकाउंट नंबर जिस पर पैसे ट्रांसफर किए जाएंगे, उसका आईएफएससी कोड, पता, मोबाइल नंबर, जन्मतिथि आदि की जानकारी देनी होगी। आपको अपने खेत की जानकारी देनी होगी। इसमें सर्वे या खाता नंबर, खसरा नंबर, कितनी जमीन है, ये सारी जानकारी देनी होगी। ये सभी जानकारी भरने के बाद सेव करना होगा। सभी जानकारी देने के बाद रजिस्ट्रेशन के लिए फॉर्म को सबमिट करना होगा। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या आए तो पीएम किसान के कस्टमर केयर नंबर पर फोन करके जानकारी ले सकते हैं।

धान का भाव

टोहाना मंडी में धान का भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 भाव ₹ 3010

धान 1718 भाव ₹ 2880

धान 1121 भाव ₹ 3110

अमृतसर मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नया धान 1509 भाव ₹2825 से 2921

धान 1718 भाव ₹2950 से 3192

धान 1121भाव ₹3000 से 3260

समालखा मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1121भाव ₹3455

सिरसा मण्डी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान(1509) भाव ₹2500 से 2980

कैथल मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

1509 ₹3051

1718 ₹ 3125

डबाई उत्तरप्रदेश मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

1509 भाव ₹ 2861

सुगंधा भाव ₹2500

शरबती भाव ₹ 2125

डबरा मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

1509 भाव ₹ 2400 से 2680

धान 1509 हाथ भाव ₹ 2700 से 2851

कंबाइन भाव ₹2600 से 2700

सुगंधा हाथ भाव ₹2532

शरबती हाथ भाव ₹ 2101

तरावडी मंडी हरियाणा

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

1509 भाव ₹2900 हाथ

भाव ₹ 2700 कंबाइन

अलीगढ़ मंडी उत्तरप्रदेश भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

1509 भाव ₹ 2850 हाथ

शरबती भाव ₹ 2127 हाथ

सुगंधा भाव ₹ 2493 हाथ

नरेला मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 हाथ भाव ₹2850

धान 1121 भाव ₹ 3400

सोनीपत मंडी भाव

धान 1509 हाथ भाव ₹2981

गोहाना मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1121 हाथ भाव ₹3500

1718 हाथ ₹3141

1509 हाथ ₹3061

सरबती ₹2077

सफीदों मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 हाथ भाव ₹3081

कंबाइन भाव ₹2800

धान 1718 भाव ₹3200

जुलाना मंडी भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 कंबाइन भाव ₹2900

खैर मंडी का भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 हाथ ₹2700 to ₹2851

कंबाइन भाव ₹2600 to ₹2700

सुगंध ₹2532

शरबती ₹ 2101

रोहतक मंडी भाव

धान 1509 ₹ 3041 (हाथ द्वारा काटी गयी धान)

खरखोदा मंडी का आज का भाव :

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1509 ₹3001 (हाथ द्वारा काटी गयी धान)
धान 1509 ₹2751(कंबाइन द्वारा काटी गयी धान)
धान 1121 ₹3501
धान 1718 ₹3264

रतिया मंडी का आज का भाव :

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

धान 1401 भाव ₹ 3072

धान 1509 हाथ भाव ₹3000

1509 धान ₹2600 – ₹2952

धान PB-1 : ₹2600-₹2871

सर्दी की पहली बारिश ने तोड़ा रिकार्ड

लंबे मानसून की रिकार्डतोड़ बारिश के बाद अब सर्दियों की पहली बारिश ने भी 65 सालों का रिकार्ड तोड़ दिया है। इस वर्ष दिल्ली में अक्टूबर का महीना 1956 के बाद से सर्वाधिक गीला रहा है। इस बार राष्ट्रीय राजधानी में 95.0 मिमी बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार अक्टूबर 1910 में 185.9 मिमी, 1954 में 238.2 मिमी, 1956 में 236.2 मिमी, 1960 में 93.4 मिमी एवं 2004 में 89 मिमी वर्षा दर्ज की गई थी।

आंकड़ों के अनुसार, रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में 87.9 मिमी बारिश दर्ज की गई, जो एक दिन में चौथी सबसे अधिक बारिश है। 1910 में अक्टूबर में एक दिन में 152.4 मिमी बारिश दर्ज की गई थी, जबकि 1954 में 24 घंटों के दौरान 172.7 मिमी और 1956 में एक ही दिन में 111 मिमी बारिश दर्ज की गई थी।

अक्टूबर माह की औसत बारिश 28.0 मिमी है, 15 तारीख तक यह केवल 3.3 मिमी हुई थी। लेकिन, दो ही दिनों की बारिश के बाद सोमवार शाम साढ़े पांच बजे तक यह 95.0 मिमी हो चुकी है।

बारिश से हुआ है बहुत बड़ा नुकसान और बह गए हैं किसानों के अरमान

तेज हवा के साथ बारिश ने किसानों के अरमान बहा दिए । राजधानी दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में प्रकृति का रौद्र रूप दिखा। तेज हवाओं से धान ही नहीं कई जगह गन्ना तक खेतों में गिर गए, खेत तालाब बन गए हैं। रबी की फसलों की बोआई और धान की कटाई भी पिछड़ गई है।

रविवार और फिर सोमवार को दोपहर बाद से हुई बारिश ने फसलों व सब्जियों को भारी फसल खराब होने से किसान परेशान हैं। इस समय गई सरसों की फसल नष्ट हो गई है। अब खेतों सरसों, चना, बरसीम आदि की बोआई हो रही

तेज बारिश और हवा के कारण धान की फसल क्षतिग्रस्त होने से किसानों के अरमानों पर पानी फिर गया है। सोमवार को हरियाणा के पानीपत में कुराड़ गांव के पास फसल की हालत देखकर किसान के चेहरे पर मायूसी छा गई।

जिन खेतों में कुछ दिन पहले ही बोआई हुई है, उन्हें नुकसान है, जबकि जहां बोआई होनी है, वहां लाभ होगा। सरसों, तोरिया, धान सहित लगभग सभी फसलों को बारिश से नुकसान हुआ है, जो फसल खेतों में गिर गई है या पानी में डूबी है वह अब घर नहीं पहुंचेगी।

इस समय किसान गन्ना व सरसों की सहफसल की बोआई करते रहे हैं, उन्हें भी बड़े पैमाने पर क्षति हुई है, जो बोया गया वह मिट्टी में मिल चुका है।

कपास / नरमा

सिरसा मण्डी भाव :

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा भाव ₹7500 से ₹8150

कपास भाव ₹7000 से ₹7370

भट्टू मंडी में आज का भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा 8145 रूपये

सरसों 7516 रूपये बिकी.

बरवाला अनाज मंडी में आज:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा का भाव 8050 रुपये,

बाजरी का रेट 1454 रुपये,

गोलूवाला मंडी का भाव

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा का ताजा भाव- 8695 /- रुपये

सरसों का भाव- 7500/- रुपये

ग्वार का भाव- 6190/- रुपये

चना का भाव 4841/- रुपये

मोठ का रेट 5900 /- रुपये

गेहूँ का प्राइस- 1900/- रुपये

मूंग का भाव – 6200 /- रुपये

पीलीबंगा अनाज मंडी में आज भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा भाव 8566 रुपये

ग्वार भाव 6201 रूपये

मुंग का रेट 5911

धान का भाव 1765 रूपये

रायसिंहनगर अनाज मंडी का भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा का भाव 8429 रुपये

सरसों भाव 7551 रुपये

चना भाव 4860 रुपये

नया मूंग भाव 6700 रुपये

ग्वार भाव 6171 रुपये

नरमा का भाव 8429 रुपये

सरसों भाव 7551 रुपये

चना भाव 4860 रुपये

नया मूंग भाव 6700 रुपये

ग्वार भाव 6171 रुपये

नोहर मंडी भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

नरमा का ताजा बोली भाव ₹8221,

सरसों का भाव ₹7224,

मूंग का रेट ₹6600,

नरमा का ताजा बोली भाव ₹8221,

सरसों का भाव ₹7224,

मूंग का रेट ₹6600,

मोठ का भाव ₹7635,

ग्वार का प्राइस ₹6010,

चना का भाव ₹4990,

तारामीरा का भाव ₹6200,

अरंडी का भाव ₹5900,

कनक का भाव ₹1968,

देवली (टोंक) मण्डी में आज भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

सरसों का भाव 7790 रुपये,

ग्वार का रेट 5500 रुपये,

तिल का भाव 9400 रुपये,

सोयाबीन का रेट 4851 रुपये,

गेहूं का बोली भाव 2020

जौ का रेट 2130 रुपये

तारामारा का भाव ₹6200,

अरंडी का भाव ₹5900,

कनक का भाव ₹1968,

बाजरी का भाव ₹1560,

37 नंबर मूंगफली ₹5100 और

देशी मूंगफली ₹6013 रूपये

केकडी मंडी में आज

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

मूंग का रेट ₹6500 रुपये

उड़द का भाव ₹7500 रुपये

अलवर मंडी का भाव:

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

सरसों कंडीशन- ₹ 8050

मंडी भाव ₹ 7800

कच्ची घानी ₹17600

एक्सपिलर ₹17300

सरसों खल ₹3000

सादुलपुर (चुरू) आज का मण्डी का रेट :

सभी मूल्य ₹ / क्विंटल में

गुआर का भाव ₹ 6000

चना नया ₹ 5000

नया टॉप क्वालिटी मूंग ₹ 6200

सादुलशहर मंडी का भाव:

नरमा भाव ₹8521

देशी कपास भाव ₹6700

गेहूं दडा भाव ₹1920

गेहूँ 1482 का भाव ₹2017

नया गुवार भाव ₹6055

मूंग भाव ₹6400

सरसों का भाव ₹7531

चना बोली भाव ₹4651

श्री गंगानगर मंडी का ताजा भाव:

‘गेहूँ का भाव ₹ 2204

नया ग्वार का भाव ₹ 6000

पुराना ग्वार का भाव ₹ 5950

गेहूँ का भाव ₹2204

नया ग्वार का भाव ₹ 6000

सरसों का रेट ₹ 7570

पुराना ग्वार का भाव ₹ 5950

चना का भाव ₹ 4925

‘ मूंग का भाव ₹ 6800

नोहर मंडी भाव

सरसों : ₹7200-7400

ग्वार : ₹5000-₹5967

चना : ₹4800-₹4920

मोठ : ₹6000-₹7300

अरंड : ₹5500-₹6063

आदमपुर मंडी भाव

नरमा : ₹7500-₹8255

कपास : ₹7000-₹7421

बरवाला मंडी भाव

नरमा : ₹7200-₹7876

बाजरा : ₹1450-₹1492

सिरसा मंडी भाव

नरमा :₹7500-₹8170.

कपास : ₹7000-₹7370.

धान 1509 : ₹2500-₹2980

ऐलनाबाद मंडी भाव

नरमा : ₹7600-₹8090

अनूपगढ़ (भाको मंडी थान)

नरमा: ₹8660

अमृतसर (पंजाब) मंडी भाव

नया धान 1509 : ₹2825-₹2921

धान 1718 ₹2950

आज धान 1718 हाथ: ₹3199

धान 1121 : ₹3000-₹3260

टोहाना मंडी भाव

धान 1509 : ₹2700-₹3010

धान 1401: ₹2600-₹2880

रानियाँ मंडी भाव

धान 1509 : ₹2957

हनुमानगढ़ मंडी भाव
नरमा- ₹8500 , ग्वार- ₹5899 , मोठ- ₹7000-₹7500 , मूंग- ₹5000-₹6625 , तिल- ₹9000-₹10351 , कनक- ₹1900-₹2100 , नरमा- ₹8300-₹8431

ये दो बैंक दे रहे हैं एफ डी पर सबसे ज्यादा ब्याज

कोरोना काल में अधिकतर बैंकों की सावधि जमा (एफडी) की ब्याज दरें कम हो। रही हैं। सावधि जमा दरों में इस गिरावट ने उन लोगों के लिए | समस्या खड़ी कर दी है, जो एफडी को छोटी अवधि के निवेश विकल्प के रूप में देखते हैं। हालांकि, अभी भी कुछ छोटे वित्तीय बैंक हैं, जो एक साल की जमा पर बेहतर रिटर्न दे रहे हैं।

जन स्मॉल फाइनेंस बैंक और उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक अभी भी सामान्य जमाकर्ताओं के लिए एक साल की एफडी पर 6.25 फीसद ब्याज ऑफर कर रहे हैं, जबकि ये बैंक वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक साल की एफडी पर 6.75 फीसद रिटर्न दे रहे हैं।

जन स्मॉल फाइनेंस बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के jan- abank.com/deposits/reg- ular fixed-deposit / मुताबिक एफडी ब्याज दर 7-14 दिनों के लिए 2.50 फीसद है, जबकि 15 से 60 दिन के लिए 3.00 फीसद है।

वहीं 61 से 90 दिनों की बैंक एफडी के लिए ब्याज दर 3.75 फीसद है, जबकि 91 से 180 दिनों की अवधि के लिए, एफडी की ब्याज दर 4.50 फीसद है। 181 से 364 दिनों के लिए जन स्मॉल फाइनेंस बैंक की

सावधि जमा ब्याज दर 5.50 फीसद है। वहीं एक वर्ष या 365 दिनों के लिए बैंक द्वारा दी जाने वाली एफडी पर ब्याज दर 6.25 फीसद है।

उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक की आधिकारिक वेबसाइट utkarsh.bank के मुताबिक बैंक 7 से 45 दिनों की अवधि के लिए जमा पर 3.00 फीसद है। 46 से 90 दिनों की सावधि जमा के लिए ब्याज दर 3.25 फीसद तो 91 से 180 दिनों की एफडी अवधि के लिए 4.00 फीसद ब्याज ब्याज मिल रहा है। वहीं, 181 से 364 दिनों की अवधि के लिए सावधि जमा दर 5.75 फीसद है तो 365 से 699 दिनों की अवधि के लिए सावधि जमा पर उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक 6.25 फीसद ब्याज दे रहा है।

एक एसएमएस के जरिये करवायें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया कार्ड को ब्लॉक, ये है पूरा प्रोसेस

किसान भाइयों क्रेडिट कार्ड अपने साथ ढेर सारी जिम्मेदारियां लाता है। ऐसे में ज्यादा जरूरी हो हैं जाता है कि इसका रख-रखाव ध्यान से किया जाए।

क्योंकि आज के समय में अगर आप हल्की सी चूक करते हैं तो आपका बड़ी चपत लग सकती है। आइए जानते हैं कि कैसे एक एस.एम.एस. के जरिए ही आप अपना क्रेडिट कार्ड ब्लॉक करवा सकते हैं।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है, ‘एसबीआई कार्ड आपको किसी संदेहास्पद और फ्रॉड ट्रांजैक्शन से बचाने के लिए प्रतिबद्ध है। अगर हम आपके कार्ड पर किसी प्रकार का संदेहास्पद एक्टविटी ऑबजर्व करेंगे ऐसी स्थिति में आपको दुरुपयोग से बचाने के लिए उसे सुरक्षा की दृष्टि से ब्लॉक कर दें।

अगर आप कार्ड खो गया है या किसी CARD ने चोरी कर लिया है ऐसी स्थिति में आप अपना कार्ड एसएमएस के जरिए उसे ब्लॉक कर सकेंगे। कार्ड को ब्लॉक करने के लिए BLOCK XXXX (XXXX – क्रेडिट काराज की अंतिम चार डिजिट) लिखने के 5676791 पर एसएमएस के जरिए ब्लॉक करवा सकेंगे। इसके अलावा आप

18601801290 या 39020202 पर भी जाकर ब्लॉक कर सकेंगे।

पूरी प्रक्रिया के बाद आपको एसएमएस, मेल या आईवीआर कॉल के जरिए कार्ड के ब्लॉक होने की जानकारी मिलेगी।

होडल के किसान के खेत में 20 फीट ज्वार पैदा की

होडल हरियाणा के गढ़ी गांव के किसान पदम द्वारा अपने खेतों में मेहनत करके ज्वार की खेती की गई थी। उनके खेत में 20 फीट ऊंची ज्वार की फसल पैदा हुई है जिसकी आसपास के इलाके में चर्चा हो रही है।

हरियाणा में ‘बागवानी फसलों में जोखिम कम करने के लिए चला रहे बीमा योजना’

हरियाणा राज्य में किसानों की आय को दोगुना करने व फसल विविधिकरण के तहत लगाई गई बागवानी फसलों में होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए प्रदेश सरकार द्वारा बागवानी बीमा योजना चलाई जा रही है ।

यह योजना किसानों को सब्जियों, फलों व मसालों को प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले जोखिम से मुक्त कर फसल लागत की भरपाई करने में कारगर साबित हो सकती हैं।

किसानों को विभिन्न कारणों से भारी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ता है। फसलों में बीमारी लगने, असमय वर्षा, तूफान, सूखा और तापमान बढ़ने जैसी आपदाओं से उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। लेकिन अब इस योजना के तहत 21 सब्जियों, फल और मसाले की फसलों को सुरक्षा कवर उपलब्ध कराया जाएगा।

इस योजना के तहत निम्नलिखित फसलों जिसमें सब्जियों में टमाटर, प्याज, आलू, फूल गोभी, मटर, गाजर, भिंडी, घीया, करेला, बैंगन, हरी मिर्च, शिमला मिर्च, पत्ता गोभी व मूली वहीं फलों की फसलों में आम, किन्नू, बेर व अमरुद सहित मसालों में हल्दी व लहसुन की फसलों को योजना के तहत सूचीबद्ध किया गया है।

इस योजना के अंतर्गत सब्जियों व मसालों पर 30000 रुपये प्रति एकड़ का बीमा किया जाएगा जिसके लिए किसान को 750 रुपये प्रति एकड़ भुगतान करना होगा। वहीं फलों की खेती पर 1000 प्रति एकड़ का प्रीमियम देखकर किसान 40000 रुपये प्रति एकड़ का बीमा करवा सकता है ।

इस योजना के तहत बीमा दावे का निपटारा करने के लिए सर्वे किया जाएगा जिसके तहत फसल नुकसान को चार श्रेणियों 25 प्रतिशत, 50 प्रतिशत, 75 और 100 प्रतिशत में आंका जाएगा। इस योजना का लाभ लेने के लिए उत्पादक का मेरी फसल मेरा ब्यौरा पर रजिस्ट्रेशन होना अनिवार्य है।

भावांतर योजना के बावजूद बाजरा उत्पादक नही बेच पा रहे हैं अपनी पूरी फसल।

बाढड़ा भिवानी में बाजरे की जो खरीद 1 अक्टूबर से शुरू होनी थी वो दो सप्ताह सप्ताह बीत जाने के बाद भी अभी शूरु नही हो पाई है।

इन हालातों के मद्देनजर किसान अपना अनाज ग्रामीण क्षेत्र के छोटे व्यापारियों को औने-पौने दामों में बेचने को मजबूर हैं।

हरियाणा सरकार की महात्वाकांक्षी भावांतर योजना के द्वारा भी एक चौथाई फसल खरीद न होने तथा किसानों के खातों में 600 रुपए प्रति क्विंटल 600 रुपए की राशि न आने की शंका से किसानों व आढतियों की चिंताएं बढ़ गयी हैं।

किसानों ने पहले ही मौमस की मार झेल रही फसलों की तुरंत खरीद शुरु करवाने की मांग की।

प्रदेश के दक्षिणी हिस्से वाले रेतीले बाढड़ा उपमंडल में खरीफ सीजन में सबसे अधिक बाजरे का उत्पादन किया जाता है वहीं पिछले 5 साल पहले मामूली भाव में बिकने वाला बाजरा आज गेहूं जैसे खाद्यान पदार्थ को पछाड़ कर आज 2250 रुपए प्रति क्विंटल एम. एस. पी. पर पहुंच गया है।

सरकार ने पिछले सत्र की तरह मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करने वाले किसानों की ही फसल खरीद करने का दावा किया है, जिससे भाव की अधिकता को देखते हुए पुराने भिवानी जिले में प्रदेश में सबसे अधिक 77 हजार एकड़ के बड़े रकबे जिसमें दादरी में भी 27 हजार एकड़ पर अकेले बाजरे की बिजाई की गई है, जो अब कटाई के बाद बिकने के इंतजार के में है।
अभी के हालातों में गांव में छोटे व्यापारी 1000 रुपये प्रति क्विंटल से 1200 रुपये प्रतिकिवंतल की दर से बाजरा बेच रहे हैं।

कृषि विभाग के पोर्टल पर फसल दर्ज न होने से हो रही है किसानों को दिक्कत

गांव साधनवास के किसान भीम सिंह, लक्ष्मण सिंह, जसविन्द्र कौर, जगसीर सिंह सहित अन्य किसानों ने बताया कि उनकी करीब 1000 एकड़ की धान अभी तक मेरी फसल मेरी ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज नहीं हुई है, जबकि धान की फसल पक कर तैयार खड़ी है। उन्होंने बताया कि पोर्टल पर फसल दर्ज करवाने के लिए कभी वे पटवारी के पास धक्के खा रहे हैं तो कभी नायब तहसीलदार व कृषि मार्कीट विभाग के पास, लेकिन उनकी समस्या का समाधान अभी तक नहीं हुआ है।

प्लास्टिक मैनेजमेंट का बिहार मॉडल

बिहार में 14 दिसंबर 2021 से प्लास्टिक थर्मोकाल के उत्पादन, भंडारण, खरीद, बिक्री और इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है।

जो इस प्रतिबंध का उल्लंघन करेगा, उस पर पांच लाख रु. जुर्माना होगा या एक साल की सजा या दोनों एक साथ होंगे। यह घोषणा जून में हुई थी। देखिए, इसका कैसा जबर्दस्त असर हुआ है।

अभी पांच महिने भी नहीं गुजरे हैं कि प्लास्टिक की चीजों का उत्पादन 70 प्रतिशत घट गया है। बिहार के जो 70 हजार उत्पादक प्लास्टिक की थैलियाँ, कटोरियाँ, प्लेटें, झंडे, पर्दे, पुड़यिा वगैरह बनाते थे, उनकी संख्या घटकर अब सिर्फ 20 हजार रह गई है। लगभग 15 हजार व्यापारियों ने अब कागज, गत्ते और पत्तों के दोने, प्लेट, कटोरियाँ वगैरह बेचना शुरु कर दिया है।

अगले दो महिनों में हो सकता है कि बिहार प्लास्टिक मुक्त ही हो जाए। लोग प्लास्टिक की थैलियों की जगह कागज और कपड़ों की थैलियां और पूड़े इस्तेमाल करना शुरु कर दें जैसे कि

अब से 40-50 साल पहले करते थे। प्लास्टिक की बोतलों, किताबों और कप प्लेटों की जगह अब मिट्टी और कागज से बने बर्तनों का इस्तेमाल होने लगेगा।

इस नए अभियान के कारण हमारे लाखों कुम्हारों, बढ़इयों और दर्जियों के लघु उद्योग फिर से पनप उठेंगे। लोगों का रोजगार बढ़ेगा। फेक्टरियां जरुर बंद होंगी लेकिन वे अपने लिए नयी चीजें बनाने की तकनीक खोज लेंगी।

सबसे बड़ा फायदा भारत की जनता को यह होगा कि वह कैंसर, लीवर, किडनी और हृदय रोग जैसी घातक बिमारियों के होने से बचेगी। प्लास्टिक की करोड़ों थैलियां समुद्र में इकट्ठी होकर जीव-जंतुओं को तो मारती ही हैं, उनके जलने से हमारा वायुमंडल जहरीला हो जाता है। सरकारें बिहार के रास्ते को अपना रास्ता जरुर बनाएं लेकिन उससे भी ज्यादा जरूरी यह है कि भारत के जन-साधारण प्लास्टिक की चीजों का इस्तेमाल खुद ही बंद कर दें तो उनके विरुद्ध कानून बने या न बने, भारत प्लास्टिमुक्त हो ही सकता है।

राजस्थान में18,500 करोड़ का फसल ऋण उपलब्ध कराने का लक्ष्य

राजस्थान में सहकारी बैंकों से जुड़े किसानों को वित्त वर्ष 2021 22 में 18,500 करोड़ रुपये का फसली कर्ज उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। सहकारी बैंकों से जुड़े किसानों को अधिक मात्रा में अल्पकालीन फसली ऋण उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वर्ष 2021-22 में इस मद में ऋण वितरण के लक्ष्य को बढ़ाकर 16,000 करोड़ रूपये से 18,500 करोड़ रुपये किया गया है। इसके साथ ही 3 लाख नये किसानों को राज्य सरकार की शून्य ब्याज पर फसली ऋण योजना से जोड़े जाने की भी घोषणा की गई थी। चालू वर्ष में 2.40 लाख नये किसानों द्वारा ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण एवं आवेदन किया गया है। इसमें से 1.25 लाख नये किसानों को 248.69 करोड़ रूपये शून्य ब्याज दर योजना से लाभान्वित किया जा चुका है तथा सहकारी बैंकों द्वारा खरीफ 2021 में लगभग 25.68 लाख किसानों को राशि रुपये 9359.87 करोड़ के फसली ऋण वितरित किये जा चुके हैं।
इस वर्ष 3 लाख नये किसानों को राज्य सरकार की शून्य ब्याज दर पर ऋण देने की योजना है।

अजमेर राजस्थान में14 हजार से ज्यादा किसानों को मिले कृषि विद्युत कनेक्शन

अजमेर विद्युत वितरण निगम ने कृषि कनेक्शन के लिए जमा डिमांड राशि वाले किसानों को त्वरित कनेक्शन जारी करना शुरू कर दिया है। अजमेर डिस्कॉम ने इस साल अब तक 14 हजार 382 कृषि कनेक्शन जारी कर दिए है।

डिस्कॉम के कार्य क्षेत्र में आने वाले 11 जिलों में बीती 31 मार्च 2021 तक कुल 20218 किसानों ने कृषि कनेक्शनों के मांग पत्र की राशि जमा कराई थी। इसके अलावा एक अप्रैल 2021 से अब तक 13604 और किसानों ने भी अपने मांग पत्र की राशि जमा कराई है।

अजमेर डिस्कॉम ने अब तक इस वित्तीय वर्ष में अजमेर शहर वृत्त में 598 कनेक्शन, अजमेर जिला वृत्त में 791 कनेक्शन, भीलवाड़ा वृत्त में 2061 कनेक्शन, नागौर वृत्त में 816 कनेक्शन, झुंझुनू वृत्त में 1403 कनेक्शन, सीकर वृत्त में 1902 कनेक्शन, बांसवाड़ा वृत्त में 642 कनेक्शन, डूंगरपुर वृत्त में 1101 कनेक्शन, चित्तौड़गढ़ वृत्त में 1711 कनेक्शन, प्रतापगढ़ वृत्त में 956 कनेक्शन, राजसमंद वृत्त में 613 कनेक्शन तथा उदयपुर वृत्त में 1788 कनेक्शन अजमेर डिस्कॉम किसानों को जारी कर चुका है।

चाय का निर्यात 14 प्रतिशत घटा

भारत से चाय के निर्यात में 2021 के पहले सात महीनों में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में लगभग 14.4 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। चाय बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, जनवरी से जुलाई-2021 के दौरान चाय का कुल निर्यात 10 करोड़ 7.8 लाख किलोग्राम का हुआ, जबकि वर्ष 2020 की समान अवधि में 11 करोड़ 75.6 लाख किलोग्राम का निर्यात किया गया था। हालांकि, सीआईएस ब्लॉक दो करोड़ 41.4 लाख किलोग्राम के साथ चाय सबसे बड़ा आयातक बना रहा। हालांकि, यह पिछले साल की समान अवधि के तीन करोड़ 5.3 लाख किलोग्राम के आयात से कम है। प्रतिबंधों के कारण ईरान को निर्यात में काफी कमी आई थी।

हरियाणा मंडी में फलों , सब्जियों , और मसालों के भाव 19 अक्टूबर 202

समूह:फल Group:Fruits

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

सेब
ढांड ₹40 ₹75 ₹70
नरवाना ₹18 ₹80 ₹47.5
पटौदी ₹40 ₹50 ₹44
पेहोवा ₹23 ₹49 ₹45
शहजादपुर ₹20 ₹20 ₹20

केला
ढांड ₹18 ₹20 ₹19
जींद ₹13 ₹13 ₹13
कालांवाली ₹18 ₹20 ₹20
नरवाना ₹13 ₹13 ₹13
शहजादपुर ₹22 ₹22 ₹22

मौसंबी
गोहाना ₹25 ₹30 ₹25
सढौरा ₹30 ₹30 ₹30

संतरा
फ़रीदाबाद ₹20 ₹25 ₹22.5
गोहाना ₹30 ₹35 ₹30

अनार
फ़रीदाबाद ₹30 ₹80 ₹55

समूह: मसाले Group:Spices

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

सूखा अदरक
शहजादपुर ₹20 ₹25 ₹20

समूह:सब्जियां Group:Vegetables

सभी मूल्य ₹ / किलोग्राम में

कच्चा केला
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18

भिन्डी
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18
सढौरा ₹20 ₹20 ₹20
शहजादपुर ₹20 ₹20 ₹20

करेला
सढौरा ₹20 ₹20 ₹20

घीया
सढौरा ₹10 ₹10 ₹10
शहजादपुर ₹7 ₹10 ₹10

बैंगन
गोहाना ₹18 ₹20 ₹18
सढौरा ₹12 ₹15 ₹13
शहजादपुर ₹8 ₹10 ₹9.45

बंद गोभी
सढौरा ₹15 ₹20 ₹18
शहजादपुर ₹15 ₹20 ₹20

फूल गोभी
नरवाना ₹15 ₹20 ₹17.5
पेहोवा ₹16 ₹16 ₹16
सढौरा ₹15 ₹30 ₹18
शहजादपुर ₹20 ₹25 ₹20

अरबी
शहजादपुर ₹15 ₹15 ₹15

खीरा
गोहाना ₹6 ₹10 ₹6
सढौरा ₹10 ₹10 ₹10
शहजादपुर ₹10 ₹15 ₹15

हरी मिर्च
गोहाना ₹25 ₹30 ₹25
सढौरा ₹25 ₹25 ₹25
शहजादपुर ₹25 ₹30 ₹25

पत्ते वाली सब्जियां
शहजादपुर ₹10 ₹12 ₹12

नींबू
गोहाना ₹25 ₹30 ₹25
सढौरा ₹40 ₹40 ₹40

प्याज
ढांड ₹32 ₹35 ₹34
गोहाना ₹25 ₹30 ₹25
नरवाना ₹20 ₹35 ₹32.5
पेहोवा ₹12 ₹12 ₹12
सढौरा ₹32 ₹38 ₹34
शहजादपुर ₹20 ₹29 ₹29

आलू
ढांड ₹9 ₹11 ₹10
गोहाना ₹7 ₹10 ₹7
नरवाना ₹8 ₹10 ₹9
सढौरा ₹8 ₹9 ₹9
शहजादपुर ₹6 ₹6 ₹6

कद्दू
सढौरा ₹6 ₹6 ₹6
शहजादपुर ₹8 ₹12 ₹8

मूली
गोहाना ₹10 ₹10 ₹10
सढौरा ₹6 ₹6 ₹6
शहजादपुर ₹8 ₹15 ₹10

पालक
शहजादपुर ₹12 ₹12 ₹12

स्पंज लौकी
शहजादपुर ₹15 ₹15 ₹15

टमाटर
फ़रीदाबाद ₹20 ₹40 ₹30
गोहाना ₹30 ₹35 ₹30
नरवाना ₹35 ₹40 ₹37.5
सढौरा ₹32 ₹40 ₹35
शहजादपुर ₹25 ₹30 ₹25

दिल्ली की मंडियों के आज के रेट

अनाज
गेहूं
एमपी देशी 2950/3050, दड़ा (मिलपहुंच) 2165/2170, चक्की (पहुंच) 2173/2175, आटा चक्की (10 किलो) 260/270, रोलर फ्लोर मिल आटा (50 किलो) 1190/1200, मैदा (50 किलो) 1230/1240, सूजी (50 किलो) 1280/1300, चोकर (48 किलो )970/980,

चावल
बासमती • लालकिला 11600, स्वाद 7500, शरबती सेला 3900/4000, स्टीम 4500/4600, (1121 नं.) चावल सेला 5900/6000, स्टीम 6600/6700, (1509 नं.) चावल सेला 5000/5100, स्टीम 6400/6500, बासमती सामान्य 6300/6400, सोर्टेक्स 6800/6900, परमल कच्चा 2400/2500, ब्रोकन (25 प्रश.) 2250/2300, वंड 2600/2700, पीआर (11) सेला 3800/3800, आईआर (8)2200/2250,

बाजरा
कैटलफीड 1550/1600,

ज्वार
पीली 2000/2200, सफेद 3200/3300,

मक्की
यूपी 1885/1990, बिहार 1915/1920, जौः 2025/2100,

उड़द
कच्चा देशी 7500/7800, रंगून एफएक्यू 7175/7200, एसक्यू 8175/8200, दाल उड़द छिलका (लोकल) 800/9100, धोया लोकल 7700-9100,

मूंग

मूंग कच्ची राजस्थान 5500/7400, यूपी-एमपी 6800/7500, दाल मूंग छिलका 8400/9200, मूंग धोया: लोकल 7800/8600,

मसूर कच्ची छोटी 7650/7950, मोटी विदेशी 7600/7625, देशी बिल्टी 7800/7825, दालमसूरः लोकल 8900/9000,

मलका: लोकल 8600/9000, मोठ 630016800, अरहर: रंगून 6500/6600, देशी कर्नाटक 6850/6900, दाल अरहर: दड़ा 8700/9100, पटका 9400/9800, चना ( खड़ी मोटर) राजस्थान 5300/5325,

चनादालः लोकल 6000/6025, बेसन ( 35 किलो) (जीएसटी अतिरिक्त): एग्रोप्योर 2410, राजमां चित्रा: चीन 12000/14200, ब्राजील 14200/14700, पुणे 9800/1400, राजमां शर्मिली 9600/9800, काबली

चना: छोटा 6800/7800, मीडियम 8200/8400, मोटा 8600/8900, लोबिया ब्राजील 7600/7800,

मटर: सफेद देशी 6600/6800

तिलहन और तेल : तिलहन: सरसों 8050/8100, खली •एक्सपेलर: सरसों पुराना बारदाना 3150/3200, नया 3200/3250, बिनौला 3200/3400, डिऑयल्ड एक्सट्रेक्शन (टन): राइसब्रान कंटीन्यूस 12000/12100, सरसों 24000/24100, सोयाबीन पीला 44000/46000,

सूरजमुखी 25500/25600,

मूंगफली (40-45 प्रश.) 34000/35000,

राईसब्रान (प्रति यूनिट ) 135/136,

खाद्य तेल (जीएसटी अतिरिक्त):

मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड (टीन) 2800/2850,
सरसों तेल (टीन) 2500/2650, सरसों एक्सपेलर 17000, तिल तेल 15500, सोयाबीन रिफाइंड मिल डिलीवरी 13100, सोया तेल डिगम्ड 12750, (टीन) 2200/2300, सनफ्लावर 2450/2500,

बिनौला
मिल डिलीवरी 13500, चावल तेल पंजाब 11300, गोला तेल (टीन) 3000/3100, अखाद्य तेल: राइस फैट्टी 9200/9250, एसिड ऑयल 7950/8000, अरंडी 13700/13800

मेवा : (जीएसटी अतिरिक्त ) ( प्रति 40 किलो )

किशमिशः इंडियन पीली 7600/8000, इंडियन हरी 8900/11600, कंधारी 15600/22500, रंगा 10800/11300,

बादामः: गुरबंदी 14000/14300, कैलिफोर्निया 18000/18200, बादामगिरी (किलो): कैलिफोर्निया 620/630, गुरबंदी 590/600,

पिस्ता (किलो): ईरानी 1050/1150 हैराती 1550/1600, पेशावरी 1850/1950, पिस्ता डोडी रोस्टिड 800/810,

अंजीर: सामान्य 18500/20000, मीडियम 27500/28500 सक्करपारा: 8500/12000, आबजोश 18500/29000,

छुहारा (क्विं.): लाल 10000/18000, रंगकाट 14000/20000,

काजू गिरी (किलो): (320 नं.) 760/770, चिलगोजा रोस्टिड (किलो) 3050,

अखरोट (किलो) 350/450, गिरी ( किलो )825/1075,

गोला (क्विं. ) कट्टे में) 20000/20500, (गत्ता बॉक्स म 21000/22000, गोला बुरादा ( 25 किलो) सामान्य 4300/4350

किराना : (जीएसटी अतिरिक्त )
कालीमिर्च (किलो): मरकरा 445/450, एटम 11.5 नं. 480/490, एटम-12 नं. 565/575,

इलायची बड़ी (किलो): झुंडीवाली 680/720, कैंचीकट 750/790,

इलायची छोटी (किलो): मुंहखुला 1050/1150, साढ़े छह एमएम 1000/1100, साढ़े सात एमएम 1250/1300, आठ एमएम 1550/1600,

लौंग (किलो) 680/700, दालचीनी 270/275, जायफल (किलो) 680/705,

जावित्री (किलो): लाल 1750/1775, पीली 1850/1875,

केसर (प्रति ग्राम) ईरानी 90/95, कश्मीरी 105/115

मुर्गी अंडा: (रुपया/सैंकड़ा): दिल्ली (ट्रे सहित) 438, कानपुर 443, पंजाब-टी 434, प्रयागराज 452, लखनऊ 463, वाराणसी 477

सोने में मामूली तेजी लेकिन चांदी में उछाल

राष्ट्रीय राजधानी के सर्राफा बाजार में सोमवार को सोना 37 रुपये की मामूली तेजी के साथ 46,306 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया । इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 46,269 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत भी 323 रुपये के उछाल के साथ 62,328 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई। पिछले कारोबारी सत्र में यह 62,005 रुपये प्रति किलो के भाव पर बंद हुई थी ।

एक अमरीकी डॉलर हुआ 75 रुपये 35 पैसे का

प्रमुख वैश्विक मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने तथा कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों की वजह से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले नौ पैसे की गिरावट के साथ 75.35 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया स्थिरता का रुख लिए खुला तथा कारोबार के दौरान यह 75.24 से 75.38 रुपये के दायरे में रहा और अंत में पिछले कारोबारी सत्र के बंद भाव के मुकाबले नौ पैसे की हानि दर्शाता 75.35 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बृहस्पतिवार को रुपया डॉलर के मुकाबले 75.26 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। शुक्रवार को ‘दशहरा’ के मौके पर विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार बंद था। इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति बताने वाला डॉलर सूचकांक 0.19 प्रतिशत बढ़कर 94.12 हो गया ।

Leave a Comment